अफगानिस्तान की हेरात मस्जिद में बड़ा धमाका, तालिबान के धर्मगुरु समेत 15 लोगों की मौत

 अफगानिस्तान की हेरात मस्जिद में बड़ा धमाका, तालिबान के धर्मगुरु समेत 15 लोगों की मौत

अफगानिस्तान के हेरात प्रांत के गुजरगाह मस्जिद में एक बड़ा बम धमाका हुआ है, जिसमें तालिबान के सबसे बड़े धर्मगुरुओं में से एक मुल्ला मुजीब उर रहमान अंसारी मारा गया। हालांकि, अभी तक इस संबंध में कोई आधिकारिक बयान जारी नहीं किया गया है। बताया जा रहा है कि इस घटना में 14 और लोग दम तोड़ चुके हैं और इसकी संख्या आगे और बढऩे की संभावना है। मुल्ला मुजीब के नाम से मशहूर अंसारी की मौत तालिबान के लिए एक बड़ा झटका है। मुल्ला मुजीब तालिबान के शीर्ष मौलवियों की परिषद का हिस्सा था और विरोधियों की क्रूर हत्या के फतवे निकालने के लिए मशहूर था। पिछले महीने भी तालिबान का एक शीर्ष मौलवी मस्जिद में हुए ब्लास्ट में मारा गया था। जानकारी के मुताबिक पश्चिमी अफगानिस्तान के हेरात शहर में एक मस्जिद के बाहर हुए विस्फोट में एक हाई-प्रोफाइल तालिबान समर्थक मौलवी के साथ-साथ आम नागरिक भी मारे गए हैं। हेरात के पुलिस प्रवक्ता महमूद रसोली ने कहा, मुजीब रहमान अंसारी अपने कुछ गार्ड और नागरिकों के साथ मस्जिद की ओर जाते समय मारे गए हैं। अफगानिस्तान के हेरात में जुमे के दिन यह घटना हुई, जब मस्जिद में नमाज के लिए लोग इक_ा हुए थे। बताया जा रहा है कि ये एक आत्मघाती हमला है।
इससे पहले, अफगानिस्तान की राजधानी काबुल के पुलिस जिला 17 में बम धमाका हुआ था। इस घटना में दो लोगों की मौत हो गई थी। जबकि तीन लोग घायल हुए थे। आंतरिक मंत्रालय के प्रवक्ता अब्दुल नफी ताकोर ने जानकारी दी थी कि नफी ने अपने ट्विटर अकाउंट पर बताया था कि काबुल के पुलिस जिला 17 में विस्फोटक सामान ले जा रही एक टोयोटा कोरोला कार में बड़ा धमाका हुआ, जिसमें दो नागरिकों की मौत हो गई और तीन घायल हो गए।
हाल ही में अफगानिस्तान से अमेरिकी नेतृत्व वाली सेना की वापसी और तालिबान के सत्ता में आने के एक साल पूरे हुए हैं। तालिबान पिछले अगस्त में आसानी से सत्ता में आ गया था, जब अमेरिकी नेतृत्व वाली सेनाओं ने 20 साल के संघर्ष के बाद सभी विदेशी सैनिकों की जल्दबाजी में वापसी कराई थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Share