भाजपा बौखला गई है क्योंकि गुजरात में अपनी हार की आहट सुन ली : दिलीप पांडे

 भाजपा बौखला गई है क्योंकि गुजरात में अपनी हार की आहट सुन ली : दिलीप पांडे

आम आदमी पार्टी के वरिष्ठ नेता दिलीप पांडे ने कहा कि भाजपा बौखला गई है क्योंकि गुजरात में अपनी हार की आहट सुन ली है। सीबीआई-ईडी समेत सारी ताक़त होने के बावज़ूद जेल नहीं भेज पाने की वजह यह है कि भाजपा के सभी आरोप झूठे हैं। सारी ताक़त होने के बावजूद ये लोग जेल नहीं भेज पा रहे हैं। देश और दिल्ली के लोग मान चुके है कि तुम्हारे आरोप झूठे है।  दिलीप पांडे ने कहा कि भारतीय जानता पार्टी ने आज फिर अपनी बौखलाहट और निकम्मेपन का परिचय दिया। क्योंकि गुजरात में भाजपा अपने हार की आहट सुन रही है। भाजपा जैसी निकम्मी पार्टी किसी काम की नहीं है। सारी एजेंसियां और सारी ताकत भाजपा के पास है। सीबीआई, ईडी, इनकम टैक्स, पुलिस भाजपा के पास है। इसके बावजूद रोजाना प्रेस वार्ता बुलाकर वक्त बर्बाद करते हैं और केवल नौटंकी करते हैं। सभी एजेंसिया तुम्हारे पास होते हुए भी गिरफ़्तार क्यों नहीं करते हो? अगर कुछ गड़बड़ है तो गिरफ़्तार किया जाना चाहिए। गिरफ़्तार क्यों नहीं कर रहे हो? फोटो का प्रिंटआउट लेकर कहते हैं कि यहां फोटो मिली तो यह गुनहगार हैं। कोई फ़ोटो लेकर आ जाओगे और फिर काहोगे कि इससे सब कुछ साफ हो जाएगा। यहां तक की ये लोग गिरफ़्तार तक नहीं कर पा रहे है।उन्होंने कहा कि सारी ताक़त होने के बावजूद ये लोग जेल नहीं भेज पा रहे हैं। हमारे गांव में इसे गाल बजाना कहते है। जब आपके हिसाब से सारे सबूत हैं तो जेल भेज दो। लेकिन जेल नहीं भेजेंगे बल्कि मीडिया में उनकी फ़ोटो दिखायेंगे। हम भी मोदी जी के साथ दूसरे लोगों की फ़ोटो दिखाते हैं।  दिलीप पांडे ने कहा कि आखिर जेल न भेजने का कारण क्या है? इसका कारण सिफऱ् एक है कि सारे आरोप बेबुनियाद और  मनगढ़ंत हैं। इनके आरोपों और दावों में थोड़ी सी भी सच्चाई होती तो ये गिरफ़्तार करते, न कि मीडिया में फ़ोटो दिखाकर नौटंकी करते। उन्होंने कहा कि मैं भाजपा के नेताओं से कहना चाहता हूं कि दुनिया की सारी ताक़त तुम्हारे पास है। सीबीआई भी तुम्हारे पास है। अगर तुम्हारे दावों में थोड़ा भी सच हैं और कुछ गड़बड़ हुई है तो नौटंकी करना बंद करो और गिरफ़्तार करके जेल भेजो। वरना देश और दिल्ली के लोग मान चुके है कि तुम्हारे आरोप झूठे है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Share