तेलंगाना : जेल में बंद भाजपा विधायक की पत्नी ने राज्यपाल को सौंपा ज्ञापन, हस्तक्षेप की मांग

 तेलंगाना : जेल में बंद भाजपा विधायक की पत्नी ने राज्यपाल को सौंपा ज्ञापन, हस्तक्षेप की मांग

जेल में बंद भाजपा विधायक टी. राजा सिंह की पत्नी टी. उषा बाई ने उन पर लगाए गए निवारक निरोध (पीडी) अधिनियम को रद्द करने के लिए तेलंगाना की राज्यपाल तमिलिसाई सुंदरराजन को ज्ञापन सौंपकर उनसे हस्तक्षेप करने की मांग की है। उन्होंने राज्यपाल से राज्य सरकार को उनके खिलाफ लगाए गए पीडी अधिनियम को रद्द करने और यह सुनिश्चित करने का निर्देश देने का अनुरोध किया कि उन्हें जेल से रिहा किया जाए।
उषा बाई ने राजा सिंह की बहनों के साथ राजभवन में राज्यपाल से मुलाकात की और एक ज्ञापन सौंपा। उन्होंने आरोप लगाया कि पुलिस ने निराधार आरोपों पर विधायक के खिलाफ मामला दर्ज किया और उनके साथ अन्याय किया। राजा सिंह की पत्नी ने यह भी आरोप लगाया कि पुलिस पूछताछ के नाम पर राजा सिंह के समर्थकों को परेशान कर रही है। उन्होंने आरोप लगाया कि राज्य सरकार राजा सिंह को उनकी ‘जनविरोधी नीतियों और गतिविधियों’ पर सवाल उठाने के लिए निशाना बना रही है।
उषा ने राज्यपाल को बताया कि पुलिस ने उनके पति के खिलाफ भडक़ाऊ टिप्पणियों और बयानों के लिए मामले दर्ज किए थे, जिन पर निर्वाचित प्रतिनिधियों के लिए गठित विशेष अदालत में मुकदमा चलाया गया था। उन्होंने दावा किया कि सरकार ज्यादातर मामलों में आरोप साबित करने में विफल रही है।
निलंबित भाजपा विधायक पर पीडी एक्ट के तहत मामला दर्ज किया गया था और 25 अगस्त को पैगंबर मोहम्मद के खिलाफ अपमानजनक टिप्पणी करने के आरोप में जेल भेज दिया गया। पुलिस के मुताबिक, राजा सिंह के खिलाफ 101 आपराधिक मामले दर्ज हैं। 18 सांप्रदायिक अपराधों में भी उनका नाम दर्ज है। पुलिस ने कहा कि राजा सिंह आदतन भडक़ाऊ भाषण दे रहे हैं और समुदायों के बीच अशांति फैलाने की कोशिश कर रहे हैं। राजा सिंह की पत्नी ने अपने पति के खिलाफ हैदराबाद पुलिस द्वारा लगाए गए पीडी अधिनियम को चुनौती देते हुए तेलंगाना उच्च न्यायालय में एक याचिका दायर की।
राजा सिंह हैदराबाद के गोशामहल निर्वाचन क्षेत्र से तेलंगाना विधान सभा के सदस्य हैं। पिछले महीने एक यूट्यूब चैनल पर आपत्तिजनक वीडियो अपलोड करने के बाद उन्हें पार्टी से निलंबित कर दिया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Share