मुख्यमंत्री ने कोटद्वार में किया अग्नीपथ योजना का शुभारंभ

 मुख्यमंत्री ने कोटद्वार में किया अग्नीपथ योजना का शुभारंभ

कोटद्वार। कोटद्वार में अग्नीपथ योजना का शुभारंभ एक भव्य कार्यक्रम के दौरान मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी, विधानसभा अध्यक्षा ऋतु खंडूडी भूषण द्वारा मशाल जला कर किया गया। इस अवसर पर सैनिक कल्याण मंत्री गणेश जोशी एवं महिला बाल विकास मंत्री रेखा आर्य भी शामिल रहे।
बुधवार को आयोजित कार्यक्रम में सर्वप्रथम मुख्यमंत्री व विधानसभा अध्यक्षा द्वारा भारत के प्रथम सीडीएस स्वर्गीय जनरल बिपिन रावत को श्रद्धांजलि दी गई। अग्नीपथ योजना के इस भव्य आगाज के दौरान हजारों की संख्या में लोग मौजूद रहे। इस दौरान भारी संख्या में पूर्व सैनिक जोश खरोश के साथ अपने सैन्य ड्रेस में उपस्थित होकर अग्निवीर योजना को प्रोत्साहित करते हुए दिखे। मॉडर्न मोंटसरी स्कूल के परिसर में आयोजित कार्यक्रम के दौरान उत्तराखंड विधानसभा अध्यक्षा ने मुख्यमंत्री को विक्टोरिया क्रॉस गब्बर सिंह रावत का प्रतीक चिन्ह एवं खुंकरी भेंट की। एनसीसी कैडेट के बैंड के साथ मुख्यमंत्री एवं कैबिनेट मंत्रियों का स्वागत किया गया। कार्यक्रम के शुभारंभ अवसर पर कई सांस्कृतिक कार्यक्रम भी आयोजित किए गए। कार्यक्रम में पहुंचने से पूर्व मुख्यमंत्री ने हेलीपैड पर अग्निवीर भर्ती में भाग लेने पहुंचे, युवाओं को खाना खिलवा कर युवा मोर्चा द्वारा बनाई गईं मोदी रसोई का उद्घाटन किया गया। कार्यक्रम के दौरान शहीद हुए जवानों के परिजनों को सम्मानित किया गया। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने कहा कि उत्तराखंड की पहचान वीर भूमि के रूप में है। उन्होंने कहा कि इस अग्निपथ योजना से देश को राष्ट्रभक्ति से ओत-प्रोत अनुशासित युवा मिलेंगे। ऐसे ही युवा नए भारत की नींव रखेंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि सेना में भर्ती होने का सपना रखने वाले उत्तराखंड के युवाओं के लिए यह योजना अत्यंत लाभकारी सिद्ध होगी। सरकार ने तय किया है कि अग्निपथ योजना के तहत सेना में सेवा देने वाले युवाओं को सेवानिवृत्ति के बाद सरकारी सेवाओं में प्राथमिकता दी जाएगी। उन्होंने कहा कि सरकार प्रदेश के युवाओं के सर्वांगीण विकास व उन्हें रोजगार के अवसर प्रदान करने के लिए प्रतिबद्ध है। उन्हें पुलिस, अग्निशमन, आपदा प्रबंधन व चारधाम यात्रा प्रबंधन सेवाओं में प्राथमिकता के आधार पर नियुक्ति दी जाएगी। प्रदेश सरकार इसके लिए जल्द नियमावली जारी करेगी। विधानसभा अध्यक्षा ने कहा कि एक सैनिक पुत्री होने के नाते अग्निपथ योजना के शुभारंभ अवसर पर वह स्वयं भी अपने को गौरवान्वित महसूस कर रही है। उन्होंने कहा कि देश के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने बीते14 जून को अग्निपथ भर्ती योजना का ऐलान किया था। इससे देश के उन युवाओं का सपना पूरा होगा जो सेना में भर्ती होना चाहते हैं। अग्निपथ योजना के तहत भारतीय युवाओं को सशस्त्र बलों में अग्निवीर के रूप में सेवा करने का अवसर प्रदान मिलेगा। उन्होंने कहा कि यूएसए, यूनाइटेड किंगडम, रूस, इजराइल, चीन व फ्रांस जैसे देशों में भी युवा इस तरह की योजना से जुड़कर देश सेवा और उज्ज्वल भविष्य से गौरवानुभूति कर रहे हैं। अग्निपथ ऐसी योजना है जो युवाओं को चार साल सेना की सेवा के साथ ही समाज को अनुशासित और प्रशिक्षित नागरिक उपलब्ध कराएगी। इस अवसर पर विधानसभा अध्यक्षा ने स्वतंत्रता दिवस पर पीएम मोदी द्वारा लाल किले की प्राचीर से देश में महिलाओं के प्रति लोगों के व्यवहार पर उठाए गए मुद्दे पर कहा कि प्रधानमंत्री ने महिला सम्मान को देश के विकास के लिए महत्वपूर्ण स्तंभ बताया है। विधानसभा अध्यक्षा ने कहा कि हमें अपनी नारी शक्ति का समर्थन करने की आवश्यकता है। कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में नारी सशक्तिकरण को एक नई दिशा एवं दशा मिली है। इसके साथ ही विधानसभा अध्यक्षा ने प्रधानमंत्री मोदी द्वारा अगले 25 वर्षों में विकसित भारत सुनिश्चित करने के लिए दिए गए पांच प्रण को लेने का संकल्प लिया। विधानसभा अध्यक्षा ने कहा कि केंद्र में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एवं राज्य में मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के नेतृत्व में देश एवं प्रदेश विकास के पथ पर अग्रसर हैं। उन्होंने कहा कि सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास, सबका प्रयास की संकल्पना पर सभी लोग प्रतिबद्ध हैं। कैबिनेट मंत्री गणेश जोशी ने कहा कि हमें अपने युवाओं को सही दिशा दिखाने की जरूरत है। उन्हें भ्रमित होने से बचाने के लिए उन्हें अग्निपथ योजना की सही जानकारी देनी होगी। कहा कि अग्निपथ योजना देश हित की योजना है। कैबिनेट मंत्री रेखा आर्य ने कहा कि अग्निपथ भर्ती योजना भारत की सुरक्षा को मजबूत करने के लिए क्रांतिकारी पहल है। अग्निपथ वह पथ है जहां पहुंचकर युवाओं को सुनहरे भविष्य के अवसरों के अनेकानेक मार्ग नजर आएंगे। कार्यक्रम में शहीदों के परिजनों को सम्मानित किया गया जिसमें एलओसी पर उरी सेक्टर में शहीद हुए कुंभीचौड निवासी शहीद हवलदार नरेंद्र सिंह की मां बचूली देवी, कारगिल युद्ध के दौरान शहीद हुए 17 गढ़वाल राइफल के शिवराजपुर निवासी शहीद हवलदार मदन सिंह की पत्नी जीना देवी, जम्मू कश्मीर बांदीपुर गुरेज सेक्टर में आतंकवादियों के साथ मुठभेड़ में शहीद हुए 15 गढ़वाल राइफल के शिवपुर निवासी शहीद राइफलमैन मनदीप सिंह की मां सुमन देवी, आतंकवादियों से लड़ते शहीद हुए कालाबड निवासी शहीद नायब सूबेदार प्रेम सिंह बिष्ट की पत्नी सावित्री देवी, पंजाब के बाटाला सेक्टर में आतंकवादियों के साथ मुठभेड़ में शहीद हुए बीएसएफ के हेड कांस्टेबल घमंडपुर निवासी शहीद भरोसे लाल की पत्नी सावित्री देवी, जम्मू-कश्मीर के बादीपुर में गोलाबारी में शहीद हुए लालपानी निवासी शहीद राइफलमैन रणवीर सिंह के पिता प्रेम सिंह को सम्मानित किया गया। इस दौरान 104 वर्षीय स्वतंत्रता सेनानी मुरली सिंह रावत और राष्ट्रपति सम्मान से सम्मानित सशस्त्र सीमा बल से सेवानिवृत्ति ऊ षा सजवान को भी सम्मानित किया गया। इस अवसर पर विधानसभा अध्यक्षा ने कहा कि कोटद्वार राजा भरत की जन्मस्थली रही है। पौराणिक काल से ही गढ़वाल का प्रवेश द्वार रहा है। कोटद्वार विधानसभा के ऐतिहासिक महत्व को मध्यनजर रखते हुये कोटद्वार के चहुमुखी विकास हेतु विधानसभा अध्यक्षा ने मुख्यमंत्री को 18 सूत्रीय मांगपत्र सौंपा। उन्होंने मुख्यमंत्री से अनुरोध किया कि सभी अट्ठारह मांगे कोटद्वार के विकास में मील का पत्थर सिद्ध होगी जिसमें कण्वाश्रम में चक्रवर्ती सम्राट भरत की प्रतिमा (स्वमेव मृगेंद्रता) व कण्वाश्रम का सौन्दर्यकरण, कोटद्वार विधानसभा में प्रवेश द्वार का निर्माण, अद्र्धसैनिक बलों के लिए कैन्टीन परिसर का निर्माण, शहीद स्थल का निर्माण, वन विभाग द्वारा मिनी जू का निर्माण, सड़कों का विवरण मरम्मत एवं डामरीकरण हेतु चिल्लखाल सिगड्डी कोटद्वार पाखरो मोटर मार्ग, कलालघाटी-मवाकोट मार्ग पर पुल, कोटद्वार-कालगढ़ मोटर मार्ग के समीप कोल्हूचौड नदी पर पुल, लालपानी-सनेह मोटर मार्ग पर पुलिया निर्माण, तेली स्रोत नाले पर स्पान बाक्स कनवर्ट निर्माण, कोटद्वार विधानसभा के आन्तरिक रोड के सुधारीकरण के लिए 10 करोड़ रूपये आदि है। इसके साथ ही 8 नलकूपों में कोटद्वार क्षेत्र में बॉयी खो नहर के पुनरोद्धार की योजना, कोटद्वार क्षेत्र में सिगड्डी नहर की मरम्मत कार्य की योजना, कोटद्वार क्षेत्र में मालन नदी पर बने बॉयी मालन नहर के साईफन एवं सिल्ट ईजेक्टर की बाढ़ से सुरक्षा कार्य की योजना, कोटद्वार विधान सभा में प्रमुख चौराहों पर हाईमास्ट लाइट की स्वीकृति, कालागढ़ क्षेत्र में सोलर स्ट्रीट लाइट स्थापित का कार्य, कालागढ़ राम गंगा नदी के पावन तट पर मुक्तिधाम एवं स्थान घाट का निर्माण, कोटद्वार विधानसभा में सुरक्षा हेतु सी०सी०टी०वी० कैमरो की आवश्यकता, कोटद्वार-पौड़ी राष्ट्रीय राजमार्ग को चार धाम यात्रा मार्ग में सम्मिलित करने हेतु चारधाम यात्रा के लिए हैली सेवा की सुविधा, कोटद्वार विधान सभा के लिए इन्डोर स्टेडियम, कालागढ में चिकित्सा सुविधा हेतु एम्बुलैन्स, सिडकुल का विस्तारीकरण और गंवई स्रोत में जीएमओयू बस अड्डा के लिए वन विभाग द्वारा जमीन हस्तान्तरण हेतु स्वीकृति आदि शामिल है। विधानसभा अध्यक्षा द्वारा मुख्यमंत्री को दिए गए 18 सूत्रीय मांग पत्र पर मुख्यमंत्री ने सभी की घोषणा की। मंच का संचालन नगर मण्डल अध्यक्ष बीना रावत ने किया। इस मौके पर जिला अध्यक्ष संपत सिंह रावत, यम्केश्वर विधायक रेणु बिष्ट, पौड़ी विधायक राजकुमार पौरी, लैंसडाउन विधायक दिलीप सिंह रावत, गौसेवा आयोग के अध्यक्ष राजेंद्र अंथवाल, सुनील गोयल, प्रदेश प्रवक्ता विपिन कैंथोला, प्रदेश मंत्री आदित्य चौहान, शैलेंद्र बिष्ट, सुमन कोटनाला, विनोद रावत, ऋषि कंडवाल, राज गौरव नौडियाल, वीरेंद्र रावत, प्रीती कुलाश्री, जंग बहादुर, जगत किशोर बर्थवाल, रजनी बिष्ट, हरीश सिंह पुंडीर, सुनीता कोटनाला, मनोज पांथरी, योगेश सैनी, चंद्रमोहन जसोला, शंकर सिंघल, प्रकाश टम्टा, पूनम खंतवाल, मंजू जखमोला, ममता देवरानी, सचिन नैनवाल, सांता बमराडा, सौरभ नौडीयाल, लता बलूनी सहित हजारों की संख्या में लोग उपस्थित रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Share