जिलाधिकारी ने किया कारगिल शौर्य दिवस कार्यक्रम में प्रतिभाग

 जिलाधिकारी ने किया कारगिल शौर्य दिवस कार्यक्रम में प्रतिभाग

रूद्रप्रयाग। कारगिल शौर्य दिवस के अवसर पर जिला सैनिक कल्याण व शिक्षा विभाग के संयुक्त तत्वाधान में राजकीय इंटर कॉलेज रुद्रप्रयाग में कारगिल के वीर शहीदों को श्रद्धांजलि एवं सम्मान कार्यक्रम जिलाधिकारी मयूर दीक्षित की अध्यक्षता में आयोजित किया गया।
मंगलवार को आयोजित कार्यक्रम में अध्यक्ष जिला पंचायत सुमंत तिवारी, विधायक रुद्रप्रयाग भरत सिंह चौधरी, कारगिल शहीदों की वीर नारियां भूतपूर्व सैनिक, जन प्रतिनिधियों सहित जिला स्तरीय अधिकारी एवं छात्र-छात्राओं द्वारा कार्यक्रम में प्रतिभाग किया गया। कार्यक्रम के शुभारंभ में दीप प्रज्वलित करके वीर शहीदों के चित्रों पर पुष्पांजलि अर्पित करके उन्हें श्रद्धाजंलि दी गई। कार्यक्रम में रायफल मैन शहीद भगवान सिंह की धर्मपत्नी श्रीमती सुंदरी देवी, नायक शहीद गोविंद सिंह की धर्मपत्नी श्रीमती ऊ मा देवी को मुख्य अतिथियों द्वारा शॉल ओढ़कर सम्मानित किया गया। इस अवसर पर विधायक रुद्रप्रयाग भरत सिंह चौधरी ने कहा कि आज ऐतिहासिक दिन है जिसमें भारतीय सेना के वीर सैनिकों ने अपने अदम्य साहस का परिचय देते हुए देश की रक्षा के लिए दुश्मनों के छक्के छुड़ाकर कारगिल युद्ध में विजय प्राप्त की। इस युद्ध में देश की रक्षा के लिए कई वीर शहीद सैनिकों ने अपने प्राणों की आहूति दी। उन्होंने कहा कि शहादत देने में उत्तराखंड पीछे नहीं रहा है इसमें भी 75 जांबाज सैनिकों द्वारा देश की रक्षा के लिए अपना बलिदान दिया है जिसमें जनपद रुद्रप्रयाग के 03 जांबाज शहीद सैनिक शामिल हैं। उन्होंने कहा कि उत्तराखंड राज्य से हर सेना में जांबाज सिपाही भर्ती हैं जो देश की सुरक्षा के लिए सीमाओं पर तैनात हैं। इस अवसर पर जिलाधिकारी मयूर दीक्षित ने कारगिल युद्ध में शहीद हुए वीर सैनिकों को श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए कहा कि भारत के सैनिकों ने देश की रक्षा के लिए दुश्मनों को कड़ी टक्कर देते हुए विजय हासिल की है तथा कई वीर सैनिकों ने देश की सुरक्षा के लिए अपने प्राणों की आहूति दी है। उन्होंने कहा कि हमें उनके बलिदान को जाया नहीं होने देना है। उन्होंने भारत की रक्षा, उन्नति एवं प्रगति के लिए जो सपना देखा है उस सपने को पूरा करने के लिए सभी को इस दिशा में कार्य करने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि हमारे वीर सैनिक देश की रक्षा के लिए विषम कठिन परिस्थितियों में सीमा में तैनात रहकर अपने कर्तव्यों का निष्ठा एवं ईमानदारी के साथ निर्वहन कर रहे हैं। इसी प्रकार जो भी अधिकारी एवं कर्मचारी जिस क्षेत्र में भी कार्य कर रहे हैं उसे अपने दायित्वों का निर्वहन देश की उन्नति एवं विकास के लिए बड़ी निष्ठा एवं ईमानदारी से करना है तभी हम उन शहीदों के सपनों को पूरा कर सकेंगे। उन्होंने उपस्थित छात्र-छात्राओं का आह्वान करते हुए कहा कि वह अपनी पढ़ाई को कड़ी मेहनत एवं लगन के साथ पूरा करें तथा जो सपना देखा है उस सपने को अवश्य पूरा करें। इसके लिए सभी को अपना लक्ष्य निर्धारित करना जरूरी है तथा कड़ी मेहनत एवं लगन से लक्ष्य प्राप्त किया जा सकता है। इसके लिए उन्होंने कहा कि प्रगति के लिए जो भी सपना देखा है उस सपने में भारत की उन्नति एवं प्रगति का सपना शामिल होना जरूरी है। कारगिल शौर्य दिवस के अवसर पर जिला सैनिक कल्याण एवं पुनर्वास अधिकारी हेमंत कुमार ने कहा कि कारगिल युद्ध में भारत के 527 सैनिकों ने देश की रक्षा के लिए अपने प्राणों की आहूति दी है जिसमें उत्तराखंड के 75 जवान शामिल है जिसमें जनपद के 03 वीर सैनिकों जिसमें नायक शहीद सुनीत दत्त कांडपाल, रायफल मैन शहीद भगवान सिंह, नायक शहीद गोविंद सिंह ने इस युद्ध में देश की रक्षा के लिए अपना सर्वोच्च बलिदान न्योछावर किया है। कारगिल शौर्य दिवस के अवसर पर शिक्षा विभाग द्वारा अटल उत्कृष्ट विद्यालयों में निबंध प्रतियोगिता का आयोजन किया गया जिसमें प्रथम, द्वितीय एवं तृतीय स्थान प्राप्त करने वाले छात्राओं को सम्मानित किया गया जिसमें प्रथम स्थान अटल आदर्श उत्कृष्ट इंटर कॉलेज ऊ खीमठ की 12 वीं की छात्रा अमृता, द्वितीय स्थान अटल आदर्श उत्कृष्ट इंटर कॉलेज रुद्रप्रयाग की 12 वीं की प्रियंका चमोली तथा तृतीय स्थान पर अटल आदर्श उत्कृष्ट इंटर कॉलेज ऊ खीमठ की 12 वीं की छात्रा सोनिया को पुरस्कृत किया गया। कारगिल शौर्य दिवस के अवसर पर कॉलेज के छात्र-छात्राओं द्वारा वीर शहीदों की याद में सांस्कृति कार्यक्रम आयोजित किया गया। कार्यक्रम का सफल संचालन किशन सिंह रावत द्वारा किया गया। इस अवसर पर मुख्य शिक्षा अधिकारी यशवंत सिंह चौधरी, उप जिलाधिकारी अपर्णा ढौंडियाल, पुलिस उपाधीक्षक प्रबोध कुमार घिल्डियाल, अधिशासी अभियंता लोनिवि जे.एस. रावत, जिला उद्यान अधिकारी योगेंद्र सिंह चौधरी, प्रधानाचार्य राजकीय इंटर कॉलेज राजवीर सिंह भदौरिया, विभिन्न विद्यालयों के प्रधानाचार्य, शिक्षक-शिक्षिकाएं सहित छात्र-छात्राएं एनसीसी कैडेट मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Share