देश में कोरोना संक्रमण का ग्राफ गिरा,ओमिक्रॉन का खतरा बढ़ा

 देश में कोरोना संक्रमण का ग्राफ गिरा,ओमिक्रॉन का खतरा बढ़ा

नई दिल्ली। देश में कोरोना संक्रमण की रफ्तार धीरे-धीरे कम हो रही है। बीते 24 घंटे में 6,563 नए मरीज सामने आए हैं, जबकि इस दौरान 132 लोगों की मौत हो गई। वहीं, 8,077 लोग स्वस्थ भी हुए हैं। राहत की बात ये है कि 572 दिन बाद एक्टिव केस में भारी गिरावट दर्ज की गई है।
केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक देश में एक तरफ कोरोना के नए ओमिक्रॉन वैरिएंट की दहशत है तो वहीं दूसरी तरफ कुछ राहत भी मिलती दिख रही है। बीते एक दिन में देश भर में 6,563 कोरोना के नए केस मिले हैं। अब सक्रीय मरीज तेजी के साथ कम होकर 82,267 रह गये है। कोरोना महामारी की शुरुआत से लेकर अबतक कुल तीन करोड़ 48 लाख16 हजार412 लोग संक्रमित हुए हैं। इनमें से 4 लाख 77 हजार 554 लोगों की मौत हो चुकी है। राहत की बात ये है कि अबतक 3 करोड़ 41 लाख 87 हजार लोग ठीक भी हुए हैं। देश में कोरोना एक्टिव केस की संख्या एक लाख से कम है। बीते 572 दिनों यानी करी 19 महीनों में यह ऐक्टिव केसों का सबसे कम आंकड़ा है। कुल मामलों के मुकाबले ऐक्टिव केसों का प्रतिशत देखें तो यह अब 0.24 प्रतिशत ही रह गया है। बीते साल मार्च के मुकाबले अब तक का यह सबसे कम आंकड़ा है। देश में कोरोना के रिकवरी रेट में भी देश भर में तेजी से इजाफा हो रहा है। फिलहाल यह आंकड़ा 98.39 प्रतिशत है। कोरोना के डेली पॉजिटिविटी रेट भी 77 दिनों से 2 फीसदी से कम पर है। इसके अलावा वीकली पॉजिटिविटी रेट भी 36 दिनों से लगातार 1 फीसदी से कम बना हुआ है। देश में कोरोना संक्रमण के मामलों में तेज गिरावट ने बड़ी राहत दी है और यह अच्छा संकेत है। इस बीच देश में वैक्सीनेशन भी तेजी से बढ़ रहा है। यदि टीकाकरण की बात करें तो अब तक 1 अरब 37 करोड़ 67 लाख 20 हजार 359 खुराकें दी गई हैं, इनमें रविवार को 15 लाख 82 हजार लोगों का टीकाकरण हुआ।
ओमिक्रॉन का खतरा बढ़ा
मंत्रालय के अनुसार कोरोना का नया वैरिएंट ओमिक्रॉन ने भारत में भी विकराल रूप धारण करता जा रहा है। देश में 161 मरीजों में ओमिक्रॉन की पुष्टि हो चुकी है। इस बीच ओमिक्रॉन वैरिएंट थोड़ी चिंताएं बढ़ा रहा है। दिल्ली में सोमवार को ही दो नए मामले सामने आए हैं। इसके चलते राजधानी में ओमिक्रॉन वैरिएंट के कुल केस दो दर्जन हो गए हैं और देश भर में आंकड़ा तेजी से बढ़ रहा है। महाराष्ट्र में सबसे ज्यादा 54 केस अब तक मिल चुके हैं। स्वास्थ्य विभाग के आंकड़ों के अनुसार, ओमिक्रॉन के महाराष्ट्र में सबसे अधिक मामले 54 दर्ज किए गए हैं। इसके बाद दिल्ली (24), राजस्थान (17), कर्नाटक (19), तेलंगाना (20), गुजरात (11) और केरल (11) है। वहीं, आंध्र प्रदेश, चंडीगढ़ और तमिलनाडु में ओमिक्रॉन के एक-एक मामले मिल चुके हैं। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि ओमिक्रॉन के मामलों का जल्दी पता लगाने के लिए और जीनोम सीक्वेंसिंग के लिए 38 प्रयोगशालाएं काम कर रही हैं। हमारी क्षमता हर महीने 30,000 जीनोम सीक्वेंसिंग की है जिसे बढ़ाने का प्रयास किया जा रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Share