देश में किसानों को सबसे अधिक दिल्ली में मिल रहा मुआवजा:अरविंद केजरीवाल

 देश में किसानों को सबसे अधिक दिल्ली में मिल रहा मुआवजा:अरविंद केजरीवाल

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने बेमौसम बारिश से खराब हुई फसलों के नुकसान की भरपाई के लिए आज किसानों को मुआवजा राशि का चेक सौंपा और कहा कि बेमौसम बारिश की वजह से किसानों की फ़सल खराब हो गई थी। उनके नुकसान की भरपाई के लिए हमने मुआवज़ा राशि देना शुरू कर दिया है। 20 हज़ार रुपए प्रति एकड़ के हिसाब से पूरे देश में किसानों को सबसे ज्यादा मुआवज़ा दिल्ली में मिल रहा है। इसके अलावा, जनवरी में सरसो की फसल खराब हो गई थी। उसका मुआवजा देने के लिए मैंने सर्वे का आदेश दे दिया है। हमारी सरकार बनने से पहले दिल्ली के शासन व्यवस्था से किसान पूरी तरह से गायब था। सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि अगर बारिश से 70 फीसद से कम फसल नुकसान हुई है, तो 70 फीसद और 70 फीसद से ज्यादा फसल नुकसान हुई है, तो 100 फीसद मुआवजा मिलेगा। पंजाब में भी कपास की फसल बर्बाद हुई है और पंजाब सरकार ने 12 हजार रुपए देने का ऐलान किया है, लेकिन अभी तक किसानों को पैसा नहीं मिला है। जिस देश या जिस राज्य में किसानों की इज्जत नहीं है, वो देश तरक्की नहीं कर सकता।  अरविंद केजरीवाल ने बीते अक्टूबर महीने में बेमौसम बारिश के चलते खराब हुई फसलों के लिए आज किसानों को मुआवजे का चेक वितरित किया। दिल्ली सचिवालय के ऑडोटोरियम में आयोजित मुआवजा वितरण कार्यक्रम के दौरान मुख्यमंत्री के साथ राजस्व मंत्री कैलाश गहलोत, मुख्य सचिव विजय देव समेत अन्य वरिष्ठ अधिकारी मौजूद रहे। इस दौरान किसानों ने सीएम अरविंद केजरीवाल को पगड़ी बांध कर सम्मानित किया। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि 2013 की बात है। हमारी नई-नई पार्टी बनी थी। उस समय बेमौसम ओले पड़े थे। कई किसानों की फसलें बर्बाद हो गई थीं। उस समय स्वर्गीय शीला जी मुख्यमंत्री थीं। उनके पास कोई पत्रकार गया और बोला कि किसान बहुत दुखी हैं। ओले पड़े हैं, कुछ मुआवजा दिया जाएगा क्या? इस पर उनका जवाब था कि दिल्ली में खेती भी होती है क्या? 15 साल राज करने के बाद अगर कोई मुख्यमंत्री कहे कि दिल्ली में खेती भी होती है क्या? एक तो किसान की फसल बर्बाद हो गई। दूसरा अगर अपना ही मुख्यमंत्री कहे कि दिल्ली में खेती होती है क्या? तो उसका अपमान हो गया। यह ये दिखाता है कि दिल्ली के पूरे शासन व्यवस्था से किसान किस तरह से गायब था। जब मुख्यमंत्री और मंत्रियों को यह ही नहीं पता है कि दिल्ली में खेती भी होती है, तो उनके लिए काम क्या करेंगे? हमारी फरवरी में सरकार बनी थी और अप्रैल में कुछ किसान आए और बोले कि बेमौसम बारिश हो गई है और उसकी वजह से हमारी फसल बर्बाद हो गई। मैं उनके साथ हो लिया और 8-10 गांवों में घूम कर आया और देखा कि फसल काफी बर्बाद हो गई थी। हम लोगों ने किसानों के साथ वहीं खाट पर बैठ कर नुकसान का आंकलन किया और वहीं पर हमने 20 हजार रुपए प्रति एकड़ मुआवजा देना तय किया। इससे किसान बहुत खुश हो गए। हमने उस वक्त न केवल ऐलान किया, बल्कि दो-तीन महीने के अंदर किसानों के खाते में पैसा भी पहुंच गया। अरविंद केजरीवाल ने कहा कि बीते अक्टूबर के महीने में बेमौसम बारिश हो गई थी। उसकी वजह से किसानों की फसल बर्बाद हो गई थी। इसलिए फिर से हम लोगों ने 20 हजार रुपए प्रति एकड़ के हिसाब से मुआवजा देने का निर्णय लिया है। मुआवजे का आंकलन करने के लिए हमने बहुत ही साधारण तरीका अपनाया है। अगर फसल 70 फीसद से कम नुकसान हुई है, तो किसान को 70 फीसद मुआवजा देंगे और 70 फीसद से ज्यादा फसल नुकसान हुई है, तो 100 फीसद मुआवजा दे देंगे। इसमें ज्यादा गणना करने की जरूरत ही नहीं है। अक्टूबर में फसलों को नुकसान हुआ था। इसका सर्वे कराने में दो-तीन महीने लग गए। अब सारे सर्वे पूरा हो गए हैं। इतनी जल्द सर्वे पूरा करने के लिए किसानों की तरफ से मैं सारे अफसरों और कर्मचारियों को भी बधाई देना चाहता हूं। आज से किसानों के चेक आने चालू हो जाएंगे। आज कुछ किसानों को मैं स्वयं चेक दे रहा हूं। मैं तो चाहता था कि खेतों में आकर यह चेक बंटने चाहिए। यह सभा गांव में होनी चाहिए थी और हजारों की तादात में किसाना होते, मजा ही अलग होता। लेकिन कोरोना का समय है और इस वजह से ज्यादा मीटिंग करनी ठीक नहीं है। इसलिए एक छोटा सा कार्यक्रम किया गया है। किसी को तीन लाख का, किसी को ढाई लाख का, किसी को दो लाख का चेक दिया जा रहा है, जो एक सम्मानजनक राशि है। बाकी दूसरे राज्यों में देखते हैं कि किसी को 10 रुपए का चेक पहुंचा। इससे अच्छा है कि चेक न ही दो। कम से कम किसान का अपमान तो न करो।  अरविंद केजरीवाल ने कहा कि चुनाव के चलते पंजाब आना-जाना पड़ रहा है। पंजाब में भी अक्टूबर के महीने में कपास की फसल बर्बाद हुई थी। गुलाबी सूंडी एक कीड़ा है, जो फसल को लग गया था। वहां की सरकार ने 12 हजार रुपए मुआवजा देने का ऐलान किया, जबकि वहां पर किसानों की लागत ज्यादा थी। किसानों ने कहा भी कि 12 हजार रुपए में कुछ नहीं होगा। वह 12 हजार रुपए भी किसानों को आज तक नहीं मिला है। जबकि हमारे यहां लागत कम थी, उसके बावजूद हमने 20 हजार रुपए प्रति एकड़ देने का ऐलान किया और अब सब लोगों को चेक भी मिलना चालू हो जाएगा। ‘आप‘ की सरकार है, हम आपके ही हैं, आपके परिवार के हैं, मैं एक तरह से आपका बेटा या भाई ही हूं, जब भी कभी किसी चीज की जरूरत हो, तो ये मत सोचना कि आपका कोई नहीं है। आपके घर का आदमी दिल्ली का मुख्यमंत्री है। आपके घर से आपका बेटा दिल्ली का मुख्यमंत्री है। कभी किसी चीज की जरूरत हो, तो आप आ जाना, हम आपके साथ खड़े हैं। मेरा अपना मानना है कि जिस देश या जिस राज्य में किसानों की इज्जत नहीं है, वो देश तरक्की नहीं कर सकता। हम किसानों की बहुत इज्जत करते हैं। कभी भी, किसी भी तरह का दुख-दर्द होगा, हम आपके साथ खड़े हैं। सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि मुझे पता चला है कि जनवरी के महीने में सरसो की फसल भी बर्बाद हो गई है। मैंने उसका मुआवजा देने के लिए सर्वे करने का आदेश जारी कर दिया है।  अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट कर कहा, ‘‘बेमौसम बारिश की वजह से दिल्ली में किसानों की फ़सल खराब हो गई थी। उनके नुकसान की भरपाई के लिए आज से हमने मुआवज़ा राशि देना शुरु कर दिया है। कुछ किसान भाईयों को मैंने खुद चेक सौंपे। 20 हज़ार रुपए प्रति एकड़ के हिसाब से पूरे देश में किसानों को सबसे ज्यादा मुआवज़ा दिल्ली में मिल रहा है।’’

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Share