ईंधन की मांग में गिरावट लगातार जारी

  ईंधन की मांग में गिरावट लगातार जारी

भारत में डीजल की मांग में लगातार दूसरे महीने गिरावट आई है। मानसून के चलते कृषि जैसे प्रमुख क्षेत्रों में खपत कम हो गई है, जबकि अगस्त के पहले पखवाड़े में पेट्रोल की खपत लगभग सपाट है। 1 से 15 अगस्त के दौरान डीजल की मांग 11.2 प्रतिशत गिरकर 2.82 मिलियन टन हो गई, जो पिछले वर्ष समान अवधि में 3.17 मिलियन टन थी। हालांकि मानसून के आगमन के बाद देश में डीजल की मांग घट जाती है और इसकी खपत परंपरागत रूप से खपत अप्रैल-जून की तुलना में जुलाई-सितंबर में कम होती है। लेकिन इस साल मुद्रास्फ ीति के दवाब को देखते हुए डीजल की कम खपत काफी अहम मानी जा रही है। दरअसल, मानसून आने के बाद लोग लंबी दूरी की यात्राओं से भी परहेज करने लगते हैं और इसके चलते डीजल की डिमांड घटने लगती है। वहीं बारिश की वजह से कृषि क्षेत्र से उठने वाली मांग बहुत कम हो जाती है। 2021 की इसी अवधि के मुकाबले डीजल की मांग 32.8 प्रतिशत अधिक थी। अगस्त की पहली छमाही में पेट्रोल की बिक्री 0.8 प्रतिशत बढक़र 1.29 मिलियन टन हो गई, जबकि पिछले महीने की समान अवधि में यह 1.28 मिलियन टन थी। यह अगस्त 2021 की तुलना में 30.6 प्रतिशत अधिक और अगस्त 2020 के पहले पखवाड़े की तुलना में 43.4 प्रतिशत अधिक थी। पूर्व-कोविड स्तर की बात करें तो अगस्त 2019 की तुलना में यह 36 प्रतिशत अधिक थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Share