गुजरात में भारी बारिश, कई जिलों में अलर्ट जारी

 गुजरात में भारी बारिश, कई जिलों में अलर्ट जारी

गुजरात के विभिन्न हिस्सों में मंगलवार को भारी बारिश हुई। भारी बारिश के बीच मौसम विभाग बुधवार को आठ जिलों में ऑरेंज अलर्ट और गुजरात के सात जिलों में येलो अलर्ट जारी करेगा। इसके अलावा दक्षिण गुजरात के तीन जिलों में भी ऑरेंज अलर्ट जारी किया गया है।
अहमदाबाद में सोमवार से भारी बारिश हो रही है, जिससे शहर के कई इलाकों में लोगों को जलजमाव का सामना करना पड़ रहा है। अहमदाबाद में मंगलवार सुबह से करीब आधा इंच बारिश हुई।
सूरत में मौसम विभाग के पूवार्नुमान के अनुसार, गुरुवार तक दक्षिण गुजरात में भारी बारिश की संभावना है। सूरत में मंगलवार सुबह से ही भारी बारिश हो रही है।
वराछा में मंगलवार सुबह से दो इंच बारिश दर्ज की गई है, जबकि उढाना-लिंबायत क्षेत्र में सोमवार शाम से मंगलवार सुबह छह बजे तक तीन इंच बारिश दर्ज की गई।
भारी बारिश के कारण नदियों का पानी खतरे के निशान पर पहुंच गया। लिंबायत का मीठीखाड़ी इलाका पूरी तरह से जलमग्न हो गया है।
मौसम विभाग के पूवार्नुमान के मुताबिक, मंगलवार को उत्तरी गुजरात के बनासकांठा और साबरकांठा में ऑरेंज अलर्ट जारी किया गया।
सौराष्ट्र के जामनगर में भी ऑरेंज अलर्ट जारी किया गया है जबकि पाटन, मेहसाणा, अरावली, सूरत, नवसारी, वलसाड, कच्छ, मोरबी, द्वारका और गिर सोमनाथ में येलो अलर्ट जारी किया गया है।
17 अगस्त को दक्षिण गुजरात के सूरत, नवसारी, वलसाड और कच्छ में भारी बारिश की संभावना है। पिछले 18 घंटों में, 209 तालुकों में बारिश हुई, जिसमें सबसे अधिक तापी जिले के व्यारा और डोलवान में 5.76 इंच बारिश हुई।
बारिश के कारण प्रदेश में नर्मदा बांध समेत जलाशयों में फिलहाल 74.62 फीसदी जल क्षमता उपलब्ध है। इससे गुजरात में आगामी वर्ष के लिए कृषि और पेयजल की समस्या का समाधान हो जाएगा।
गुजरात में मानसून की 85.56 प्रतिशत बारिश दर्ज की जा चुकी है, जो पिछले आठ वर्षों में 14 अगस्त तक दर्ज की गई सबसे अधिक बारिश है।
कच्छ में 137 फीसदी, दक्षिण गुजरात में 95 फीसदी, सौराष्ट्र में 78 फीसदी, उत्तरी गुजरात में 76 फीसदी और पूर्वी मध्य गुजरात में 73 फीसदी बारिश हुई है।
जिलेवार अगर बात करें तो वलसाड में 91 इंच, डांग में 77 इंच, नवसारी में 70 इंच और नर्मदा में 53 इंच बारिश हुई है। दो तालुका, कपराडा और धरमपुर में 100 इंच से अधिक बारिश हुई है, जिसमें कपराडा में 127 इंच और धर्मपुर में 103 इंच बारिश शामिल हैं।
कच्छ, गिर सोमनाथ, देवभूमि द्वारका, पोरबंदर, नर्मदा और वलसाड के छह जिलों में 100 प्रतिशत से अधिक वर्षा दर्ज की गई, जिसमें गिर सोमनाथ में 101 प्रतिशत के साथ 38.74 इंच बारिश हुई, देवभूमि द्वारका में 100 प्रतिशत के साथ 28.84 इंच बारिश हुई। पोरबंदर में 110 फीसदी बारिश के साथ 33.30 इंच, नर्मदा में 127 फीसदी बारिश के साथ 53.26 इंच बारिश हुई है जबकि वलसाड में 101 फीसदी बारिश के साथ 90.94 इंच बारिश हुई।
43 तालुकों में मौसमी बारिश 100 प्रतिशत से अधिक है।
वर्तमान में, राज्य में 70 जलाशय हाई अलर्ट पर हैं, जबकि 14 जलाशय 90 प्रतिशत तक पानी भरने के साथ अलर्ट पर हैं। 80 प्रतिशत पानी वाले 15 जलाशयों पर चेतावनी जारी की गई है।
107 जलाशयों में लगभग 70 प्रतिशत पानी है। सरदार सरोवर नर्मदा बांध के अपस्ट्रीम इंदिरा सागर बांध से बारिश और पानी छोड़े जाने से नर्मदा बांध को करीब 1,04,000 क्यूसेक पानी मिल रहा है, जिससे नर्मदा बांध का जलस्तर 135.11 मीटर तक पहुंच गया है।
नर्मदा बांध का अधिकतम जलस्तर 138.68 मीटर है, जो अब खतरे के निशान से महज 3 मीटर दूर है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Share