आईएईए की टीम ज़ापोरिज्जिया एन-प्लांट में रूकी

 आईएईए की टीम ज़ापोरिज्जिया एन-प्लांट में रूकी

अंतरराष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा एजेंसी के प्रमुख राफेल ग्रॉसी ने कहा है कि उनके विशेषज्ञ यूरोप के सबसे बड़े परमाणु ऊर्जा संयंत्र ज़ापोरिज्जिया एन-प्लांट के पास डेरा डाले हुए हैं। यूक्रेन और रूस के सुरक्षा बलों के बीच भारी गोलाबारी के बीच श्री ग्रोसी के नेतृत्व में एक टीम रूस के कब्जे वाले संयंत्र का दौरा करने गई है। संयुक्त राष्ट्र परमाणु एजेंसी के विशेषज्ञों ने बीती देर रात यूक्रेन में रूस के कब्जे वाले क्षेत्र में प्रवेश किया और यूरोप के सबसे बड़े परमाणु ऊर्जा संयंत्र पहुंचे।
सूत्रों ने कहा, आईएईए के निरीक्षण दल भारी गोलीबारी के बीच ज़ापोरिज्जिया परमाणु ऊर्जा संयंत्र तक पहुंचा। यह दल कई घंटों की देरी के बाद एक बड़े काफिले में रूसी सैनिकों की मौजूदगी में यहां पहुंचा। ग्रॉसी ने यूक्रेन के कब्जेबाले क्षेत्र में आने के बाद संवाददाताओं से कहा, हम कहीं नहीं जा रहे हैं। आईएईए अब वहां है, वह संयंत्र के पास है। आईएईए की टीम वही रहने वाली है। श्री ग्रॉसी निजी तौर पर इस मिशन का नेतृत्व कर रहे हैं।
उन्होंने कहा कि आईएईए विशेषज्ञों का एक समूह संयंत्र में रुका हुआ है और स्थिति का निष्पक्ष, तटस्थ और तकनीकी रूप से सही आकलन करेगा। मुझे चिंता थी, मुझे चिंता है और मैं संयंत्र के बारे में तब तक चिंतित रहूंगा, जब तक स्थिति नियंत्रण में न हो जाए। उल्लेखनीय है कि यूक्रेन और रूस ने एक दूसरे पर संयंत्र के पास गोलाबारी करके चेरनोबिल जैसा आपदा-जोखिम पैदा करने का आरोप लगाया है।
दोनों देशों के बीच छह महीने से चल रहे युद्ध के बीच संयंत्र को अपने नियंत्रण में ले लिया है। यूक्रेन और रूस के सुरक्षा बलों के बीच युद्ध से परमाणु संयंत्र की सुरक्षा को लेकर खतरा मंडरा रहा है। बिगड़ते हालात के कारण इससे पहले संयंत्र के एक रिएक्टर को बंद कर दिया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Share