भाजपा मुख्यालय से ऑपरेशन लोटस चलाया जाता है : सौरभ भारद्वाज

 भाजपा मुख्यालय से ऑपरेशन लोटस चलाया जाता है : सौरभ भारद्वाज

आम आदमी पार्टी के प्रवक्ता सौरभ भारद्वाज ने भाजपा पर आरोप लगाते हुए कहा कि दिल्ली में आम आदमी पार्टी ने दूसरी बार भाजपा का ऑपरेशन लोटस फेल किया है। आप ने 2014 के बाद 2022 में ऑपरेशन लोटस का पर्दाफ़ाश किया है। भाजपा द्वारा 2014 में आम आदमी पार्टी के विधायकों को 5-5 करोड़ का ऑफर, देने का स्टिंग कर ऑपरेशन लोटस को फेल किया था। उन्होंने कहा कि भाजपा मुख्यालय से ऑपरेशन लोटस चलाया जाता है। जिस भी राज्य में जनता भाजपा को हरा देती है, वहां दूसरी पार्टियों के एमएलए खरीद कर भाजपा सरकार बना लेती है। दिल्ली में ऑपरेशन लोटस के तहत पार्टी के नंबर 2 के नेता मनीष सिसोदिया को निशाना बनाया। सबसे पहले स्कूलों की कक्षाएं बनाने में गड़बड़ी का अभियान चलाया, इसमें फेल होने पर एक्साइज पॉलिसी में पॉलिसी में फर्जी गड़बड़ी का आरोप लगाया। जब एक्साइज पॉलिसी और सीबीआई रेड में कुछ नहीं मिला तो हताश होकर उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया को भाजपा में शामिल होने का ऑफर दिया। एमपी, गोवा, कर्नाटक के बाद पिछले महीने महाराष्ट्र में शिवसेना से विधायक तोड़ कर भाजपा ने सरकार बनाई। हम भाजपा का ऐसा पर्दाफाश करेंगे कि कभी भी किसी भी राज्य की सरकार को तोडऩे की कोशिश दोबारा नहीं करेगी। सौरभ भारद्वाज ने पार्टी मुख्यालय में महत्वपूर्ण प्रेस वार्ता को संबोधित किया। विधायक सौरभ भारद्वाज ने कहा कि प्रधानमंत्री लाल किले की प्राचीर से जब 15 अगस्त को भाषण देते हैं तो अपनी सरकार की बड़ी-बड़ी उपलब्धि ऐर कार्यक्रमों के बारे में जनता को बताते हैं। लेकिन भाजपा सबसे जरूरी ऑपरेशन के बारे में लालकिले से चर्चा नहीं करते हैं लेकिन देश की जनता यह चर्चा रोज करती है। भारतीय जनता पार्टी का वह कार्यक्रम ऑपरेशन लोटस है। भारतीय जनता पार्टी ने खुद ऑपरेशन लोटस शब्द की उत्पत्ति भारतीय राजनीति के शब्दकोश में की है। इस ऑपरेशन लोटस कि जब जब राज्य सरकारों को चुनाव में जनता चुनकर भेजती है, उसमें खूब समय मिलता है। भारतीय जनता पार्टी को उस राज्य सरकार और उस पार्टी के खिलाफ प्रचार करने के लिए। प्रधानमंत्री से लेकर गृह मंत्री और केंद्रीय मंत्री स्वयं प्रचार करने हर राज्य में जाते हैं। भले वह दिल्ली जैसा छोटा राज्य हो या पश्चिमी बंगाल जैसा बड़ा राज्य हो। चुनाव प्रचार करने के बाद उस राज्य की जनता भाजपा को नकार देती है और किसी दूसरी पार्टी को चुनती है। तब जनता के फैसले के खिलाफ एक षड्यंत्र शुरू होता है। भारतीय जनता पार्टी के केंद्रीय मुख्यालय से वह षड्यंत्र शुरू होता है, उस षड्यंत्र का नाम ऑपरेशन लोटस है। यह ऑपरेशन लोटस हमने मध्य प्रदेश, गोवा, कर्नाटक, अरुणाचल में देखी, जहां विपक्षी पार्टी क् विधायकों को तोडक़र भारतीय जनता पार्टी ने अपनी सरकार बनाई और जनता को धोखा दिया। अभी हाल ही में भारतीय जनता पार्टी ने पहले महाराष्ट्र में अजीत पवार के साथ एक ऑपरेशन लोटस का कार्यक्रम शुरू किया। एक दिन के अंदर 6 मुकदमे जो अजित पवार थे उन्हें हटाया गया। ऑपरेशन फेल हुआ लेकिन भारतीय जनता पार्टी लगी रही। आखिरकार पिछले महीने शिवसेना को तोडक़र जनता द्वारा चुनी गई सरकार को गिराया गया। देश में जनता सरकारें चुनती है और भारतीय जनता पार्टी सरकारें गिराती है।दिल्ली में किस प्रकार से भाजपा ने ऑपरेशन लोटस चलाकर दिल्ली सरकार को गिराने की पूरी कोशिश की। यह उनकी कार्यशैली है। वह सबसे पहले पार्टी के नंबर 2 के नेता को अंकित किया गया कि आम आदमी पार्टी के नंबर 2 के नेता मनीष सिसोदिया हैं। इनको निशाना बनाया जाएगा। उनके खिलाफ स्कूलों के कमरों को बनाने की गड़बड़ी के अंदर एक बड़ा अभियान भाजपा ने चलाया। उसमें जब कुछ नहीं निकला तो भाजपा हताश हो गई। उसके बाद एक्साइज पॉलिसी में उनके खिलाफ आरोप लगाए गए। कई महीनों तक अभियान चलाने के बाद सीबीआई जांच की धमकी दी गई और सीबीआई की एफआईआर दर्ज की गई। सीबीआई ने 31 जगह छापे मारे और उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया के यहां 14 घंटे तक सीबीआई के अधिकारी रहे। उनका चप्पा-चप्पा छाना गया लेकिन जब सीबीआई को सोना, पैसा, बेनामी संपत्ति सहित कुछ भी नहीं मिला। इतना दबाव बनाने के बाद मनीष सिसोदिया को कहा गया कि आप भाजपा में आ जाइए। आपको मुख्यमंत्री का उम्मीदवार बनाएंगे। आम आदमी पार्टी की सरकार की गिरानी है। इस तरह कुल मिलाकर भाजपा का दिल्ली के अंदर ऑपरेशन लोटस दूसरी बार फेल किया है। इससे पहले 2014 में जनता की चुनी हुई सरकार को गिराने का ऑपरेशन फेल किया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Share