पाक ने नीलम-झेलम परियोजना पर भारतीय दावों को किया खारिज

 पाक ने नीलम-झेलम परियोजना पर भारतीय दावों को किया खारिज

पाकिस्तान ने भारत के उस दावे को खारिज कर दिया है, जिसमें यह कहा गया कि चीनी इंजीनियरों और कर्मचारियों ने 969 मेगावाट की नीलम-झेलम जलविद्युत परियोजना के कार्य को छोड़ दिया है। विदेश कार्यालय (एफओ) के प्रवक्ता असीम इफ्तिखार ने एक प्रेस वार्ता में कहा कि भारत एक बार फिर जलविद्युत परियोजना के बारे में झूठी और निराधार रिपोर्ट पेश कर रहा है।
उन्होंने कहा कि परियोजना में एक गलती का पता चला था और वर्तमान में उस पर सुधार का काम चल रहा है, जिसके लिए संबंधित इकाई, चीन के गेझौबा समूह से संपर्क किया गया है।
इफ्तिखार ने कहा कि समूह पहले ही साइट पर पूरी तरह से जुट गया है और वर्तमान में काम बिना किसी रुकावट के सुचारू रूप से आगे बढ़ रहा है। 2023 में परियोजना का काम पूरा होने की उम्मीद है। एफओ के प्रवक्ता ने कहा कि काम रुकने या छोडऩे की किसी भी रिपोर्ट में कोई सच्चाई नहीं है।
उन्होंने कहा कि इन रिपोर्ट का उद्देश्य जनता को गुमराह करना और साथ ही पाकिस्तान-चीन संबंधों में विवाद पैदा करना है। इफ्तिखार ने कहा कि इस तरह के प्रयास सफल नहीं होंगे, क्योंकि दोनों देशों लोगों के लाभ के लिए द्विपक्षीय सहयोग को मजबूत करने के लिए पूरी तरह से प्रतिबद्ध हैं। अफगानिस्तान में संयुक्त राष्ट्र द्वारा नामित एक व्यक्ति की मौजूदगी के बारे में एक सवाल का जवाब देते हुए प्रवक्ता ने कहा कि वह एक भगोड़ा अपराधी था और पाकिस्तान में आतंकवाद से संबंधित कई मामलों में वांछित था।
उन्होंने कहा कि पाकिस्तानी अधिकारियों ने कई मौकों पर संबंधित अफगान वातार्कारों के साथ इस मुद्दे को औपचारिक रूप से उठाया है। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान के साथ-साथ अंतर्राष्ट्रीय समुदाय के पास यह मानने के पर्याप्त कारण हैं कि अफगानिस्तान में अभी भी कुछ ऐसी जगह हैं, जिनका आतंकवादी समूहों द्वारा सुरक्षित ठिकाने के रूप में उपयोग किया जाता है।
00

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Share