गलत नीतियों का दंश झेल रहे हैं लोग : मायावती

 गलत नीतियों का दंश झेल रहे हैं लोग : मायावती

उत्तरप्रदेश की बसपा प्रमुख मायावती ने कहा कि जातिवादी और पूंजीवादी मानसिकता के तहत बनाई गई नीतियों का दंश लोग झेल रहे हैं। उत्तरप्रदेश सरकार में रहते हुए बसपा ने हरिद्वार जिले और पर्वतीय क्षेत्रों में भूमिहीन लोगों को खेती के लिए जमीन आवंटित की थी। यह बात गुरुवार को कलियर विधानसभा के कोर पहुंची बसपा सुप्रीमो मायावती ने चुनावी सभा में कही। उन्होंने कहा कि बसपा पूरे उत्तराखंड में सभी सीटों पर अपने बूते चुनाव लड़ रही है। पार्टी ने सर्वसमाज के लोगों को टिकट दिए हैं। सभी विरोधी दलों की सरकारों ने गरीब, मजदूर, किसान और व्यापारियों का शोषण किया। विरोधी पार्टी की सरकारों ने प्राइवेट सेक्टर में आरक्षण की व्यवस्था नहीं की। पिछड़े वर्ग के लोगों को आरक्षण का लाभ नही मिल पाया है। दलितों को अधिकार दिलवाने के लिए जो कानून बने हैं, उस पर सरकारें अमल नही कर पा रही हैं। उत्तराखंड में भी दलितों और मुस्लिमों को उनके अधिकारों से वंचित रखा गया है। किसान वर्ग भाजपा की गलत नीतियों के कारण परेशान है। जातिवादी और पूंजीवादी मानसिकता के तहत बनाई गई नीतियों का दंश लोग झेल रहे हैं। पूंजीपतियों और धन्नासेठों का विकास होने के बजाय आम आदमी का विकास होना चाहिए।
कांग्रेस, भाजपा पूंजीपतियों और धन्नासेठों की मदद के लिए सत्ता में आती हैं। उन्हें लाभ पहुंचाने के लिए ही नीतियां तैयार करती हैं। बसपा अपने कार्यकर्ताओं की मदद से चुनाव लडक़र प्रदेश और केंद्र की सत्ता में आना चाहती हैं। मायावती ने अविभाजित यूपी के समय बसपा की सरकार के कामों को गिनाते हुए कहा कि उत्तराखंड जब उत्तरप्रदेश का हिस्था था तब अपने शासनकाल में पहाड़ी क्षेत्रों के विकास के लिए बहुत कार्य किए। अपने शासन में सख्त कानून चलाया और बदमाशों को सलाखों के पीछे भेजा।
यह रहे मौजूद –   प्रदेश प्रभारी शमशुददीन राइन, मेघराज जरावरे, नरेश गौतम, प्रदेश अध्यक्ष और ज्वालापुर से प्रत्याशी शीशपाल सिंह, लक्सर से प्रत्याशी मोहम्मद शहजाद, खानपुर से रवींद्र पनियाला, मंगलौर से हाजी सरवत करीम अंसारी, भगवानपुर से सुबोध राकेश, झबरेड़ा से आदित्य बृजवाल, रुडक़ी से हाजी तनवीर कुरैशी, कलियर से सुरेंद्र सैनी हरिद्वार से चरण सिंह, हरिद्वार ग्रामीण से युसूफ अंसारी, रानीपुर से ओमपाल आदि शामिल रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Share