बारिश से हुए नुकसान से निपटने के लिए बेंगलुरु को 300 करोड़ रुपए

 बारिश से हुए नुकसान से निपटने के लिए बेंगलुरु को 300 करोड़ रुपए

कर्नाटक के मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई ने कहा है कि मौजूदा बारिश की स्थिति से निपटने के साथ-साथ बेंगलुरु में बुनियादी ढांचे के रखरखाव के लिए 300 करोड़ रुपए जारी करने का फैसला किया गया है। बोम्मई ने सोमवार को बाढ़ की स्थिति से निपटने के लिए अधिकारियो के बैठक के बाद मीडियाकर्मीयों से बातचीत में कहा कि बेंगलुरु में बाढ़ जैसी स्थिति को देखते हुए शहर के लिए विशेष रूप से राज्य आपदा प्रतिक्रिया कोष (एसडीआरएफ) की एक कंपनी स्थापित करने और उपकरण उपलब्ध कराने के लिए 9.50 करोड़ रूपये जारी किए गए हैं।
उन्होंने कहा कि एसडीआरएफ की यह कंपनी सिर्फ बेंगलुरु सिटी की देखभाल करेंगी। शेष राज्य के लिए सेवानिवृत्त रक्षा कर्मियों को शामिल कर दो और कंपनियां स्थापित की जाएंगी। उन्होंने कहा कि राज्य में बारिश और बाढ़ की स्थिति का अध्ययन करने के लिए एक केंद्रीय दल मंगलवार रात बेंगलुरु पहुंचेगा। उन्होंने कहा कि केन्द्रीय दल को बारिश और बाढ़ से मौजूदा नुकसान के संबंध में एक ज्ञापन सौंपा जाएगा। बाढ़ प्रभावित जिलों का दौरा करने के बाद दल के सदस्यों के साथ बैठक की जायेगी।
बोम्मई ने कहा कि उन्होंने कावेरी नदी से शहर को पीने के पानी की आपूर्ति करने वाले मांड्या के मालवल्ली तालुक में स्थित टी.के.हल्ली पंपहाउस का दौरा किया है, जोकि क्षतिग्रस्त है इसे ठीक करने में दो दिन का समय लग सकता हैं। उन्होंने कहा कि इस बीच बेंगलुरु को पानी की आपूर्ति के लिए एक वैकल्पिक योजना तैयार की गई है। लगभग 8,000 बोरवेल बीडब्ल्यूएसएसबी के नियंत्रण में हैं और इनके जरिए क्षेत्र में फिर से पानी की आपूर्ति की जोयगी। मौसम विभाग ने अगले चार दिनों तक शुक्रवार तक दक्षिण और उत्तर आंतरिक कर्नाटक में भारी बारिश की अनुमान व्यक्त किया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि बेंगलुरु शहर के कुछ इलाकों में एक सितंबर से पांच सितंबर के बीच सामान्य बारिश की तुलना में 150 प्रतिशत अधिक बारिश हुई है। महादेवपुरा, बोम्मनहल्ली और के.आर.पुरम में 307 प्रतिशत अधिक बारिश दर्ज की गई है। यह पिछले 42 वर्ष में सबसे अधिक बारिश है।
बेंगलुरु में सभी 164 टैंक पूरी तरह से भर गए हैं और बारिश का पानी दक्षिण बेंगलुरु के रिहायशी इलाकों में पानी भर रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Share