जिलाधिकारी ने अधिकारियों के साथ किया संवाद कार्यक्रम का आयोजन

 जिलाधिकारी ने अधिकारियों के साथ किया संवाद कार्यक्रम का आयोजन

रूद्रप्रयाग। आम जनमानस द्वारा दर्ज की जा रही शिकायतों का त्वरित निराकरण करने हेतु जिलाधिकारी मयूर दीक्षित ने जनपद में कार्यरत ग्राम विकास अधिकारियों एवं ग्राम पंचायत विकास अधिकारियों के साथ संवाद कार्यक्रम आयोजित किया। इस अवसर पर उन्होंने समस्त अधिकारियों को आवश्यक निर्देश दिये।
बता दें कि जनपद के अंतिम छोर में निवासरत व्यक्तियों को केंद्र व राज्य सरकार द्वारा संचालित विभिन्न विकास कार्यक्रमों, योजनाओं के सफल क्रियान्वयन एवं स्थानीय स्तर पर जन शिकायतों एवं समस्याओं के त्वरित निस्तारण हेतु जिलाधिकारी मयूर दीक्षित इस दिशा में निरंतर प्रयास कर रहे हैं तथा ब्लॉक स्तर के माध्यम से संचालित योजनाओं के संबंध में जन प्रतिनिधियों एवं ब्लॉक स्तर पर तैनात अधिकारियों के साथ संवाद कार्यक्रम आयोजित कर रहे हैं। इसी क्रम में खंड विकास स्तर से संचालित हो रही विकास योजनाओं को गुणवत्ता एवं समयबद्धता के साथ पूर्ण करने एवं योजनाओं के संचालन में आ रही कठिनाई एवं स्थानीय स्तर पर आम जनमानस द्वारा दर्ज की जा रही शिकायतों का त्वरित निराकरण हेतु जिलाधिकारी मयूर दीक्षित ने मंगलवार को जिला कार्यालय सभागार में जनपद में कार्यरत ग्राम विकास अधिकारियों एवं ग्राम पंचायत विकास अधिकारियों के साथ संवाद कार्यक्रम आयोजित किया तथा ग्रामीण क्षेत्रों में संचालित जन कल्याणकारी योजनाओं एवं समस्याओं के बारे में जानकारी प्राप्त की गई। संवाद कार्यक्रम में जिलाधिकारी ने सभी ग्राम विकास अधिकारी एवं ग्राम पंचायत अधिकारियों से कहा कि सरकार द्वारा संचालित जन कल्याणकारी योजनाओं के सफल क्रियान्वयन एवं उनको धरातल में उतारते हुए उस योजना का लाभ आम जनमानस तक उपलब्ध कराने में उनकी महत्वपूर्ण भूमिका है, इसलिए सभी अधिकारी अपने दायित्वों एवं जिम्मेदारी का निर्वहन कुशलता के साथ करें। उन्होंने सभी अधिकारियों को स्पष्ट निर्देश दिए हैं कि विकास कार्यों की गुणवत्ता में किसी भी प्रकार की कोई कमी पाई जाती है तो संबंधित के विरुद्ध आवश्यक कार्यवाही सुनिश्चित की जाएगी जिसकी जिम्मेदारी संबंधित अधिकारी एवं कर्मचारी की होगी। उन्होंने सभी अधिकारियों को स्पष्ट निर्देश दिए हैं कि अकसर जन प्रतिनिधियों एवं आम जनमानस द्वारा शिकायतें की जाती हैं कि ग्राम विकास एवं ग्राम पंचायत अधिकारी अपने क्षेत्रों में उपलब्ध नहीं होते हैं जिस कारण उनके कार्य समय से नहीं हो पाते हैं, इसके लिए उन्होंने सभी अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि सभी अधिकारी अनिवार्य रूप से 15 दिन फील्ड में उपलब्ध रहेंगे। इसके लिए उन्होंने सभी अधिकारियों से रोस्टर तैयार करते हुए खंड विकास अधिकारी से संस्तुति कराने को कहा। उन्होंने कहा कि तैयार किए गए रोस्टर की एक प्रति खंड विकास कार्यालय के सूचना पट्ट में भी चस्पा की जाए ताकि ब्लॉक मुख्यालय में आने वाले आम जनमानस को संबंधित कर्मचारी के बारे में स्पष्ट जानकारी उपलब्ध हो सके। उन्होंने ग्राम विकास अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि उनके अधीन जो रोजगार सेवक ठीक ढंग से अपने दायित्वों का निर्वहन नहीं कर रहे हैं इसकी सूची मुख्य विकास अधिकारी को उपलब्ध कराना सुनिश्चित करें ताकि उनके विरुद्ध आवश्यक कार्यवाही करना सुनिश्चित किया जा सके। संवाद कार्यक्रम में जिलाधिकारी ने निर्देश दिए हैं कि जो अधिकारी अपने गृह ब्लॉक में कई वर्षों से तैनात हैं उनकी सूची तैयार करें। उन्होंने सभी अधिकारियों से कहा कि जो अधिकारी अपने गृह ब्लॉक में तैनात हैं और अन्य ब्लॉक में कार्य करने के इच्छुक हैं, उस संबंध में अपना आवेदन पत्र दे सकते हैं ताकि उनकी मांग के अनुसार उचित कार्यवाही की जा सके। कार्यक्रम में जिलाधिकारी ने उपस्थित ग्राम विकास अधिकारी एवं ग्राम पंचायत विकास अधिकारियों से ग्राम स्तर पर संचालित योजनाओं एवं जारी किए जा रहे प्रमाण-पत्रों के संबंध में आ रही समस्याओं के संबंध में उनकी समस्याओं को सुना तथा सभी अधिकारियों को आश्वस्त किया कि उनके द्वारा जो भी समस्याएं रखी गई हैं उन पर आवश्यक कार्यवाही सुनिश्चित की जाएगी। इस मौके पर मुख्य विकास अधिकारी नरेश कुमार, अपर जिलाधिकारी दीपेंद्र सिंह नेगी, जिला विकास अधिकारी मनविंदर कौर, जिला पंचायत राज अधिकारी प्रेम सिंह रावत, जिला पूर्ति अधिकारी के.के. अग्रवाल, खंड विकास अधिकारी प्रवीण भट्ट सहित ग्राम विकास अधिकारी व ग्राम पंचायत विकास अधिकारी मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share