ब्रिटेन के विदेश कार्यालय ने ताइवान के खिलाफ आक्रामकता पर चीनी राजदूत को तलब किया

 ब्रिटेन के विदेश कार्यालय ने ताइवान के खिलाफ आक्रामकता पर चीनी राजदूत को तलब किया

ब्रिटेन के विदेश कार्यालय ने हाल के दिनों में ताइवान के खिलाफ बीजिंग के आक्रामक और व्यापक स्तर पर हमले को लेकर ब्रिटेन में चीन के राजदूत को तलब किया है।  विदेश सचिव लिज ट्रस ने कहा कि पिछले सप्ताह अमेरिकी प्रतिनिधि सभा की अध्यक्ष नैन्सी पेलोसी की स्व-शासित द्वीप की यात्रा के बाद उन्होंने अधिकारियों को राजदूत झेंग जेगुआंग को अपने देश के कार्यो के बारे में बताने का आदेश दिया था।
चीन ने यात्रा का जवाब दिया। उसने ताइवान के जल और वायु क्षेत्र में मिसाइल प्रक्षेपण और घुसपैठ के सिलसिले को अमेरिका द्वारा उकसावे के रूप में देखा।
ट्रस ने कहा : ब्रिटेन और भागीदारों ने ताइवान के आसपास के क्षेत्र में चीन की वृद्धि की कड़े शब्दों में निंदा की है, जैसा कि हमारे हालिया जी 7 बयान के माध्यम से देखा गया है।
मैंने अधिकारियों को निर्देश दिया कि वे अपने देश के कार्यो की व्याख्या करने के लिए चीनी राजदूत को तलब करें।
हमने हाल के महीनों में बीजिंग से तेजी से आक्रामक व्यवहार और बयानबाजी देखी है, जिससे क्षेत्र में शांति और स्थिरता को खतरा है। ब्रिटेन ने बिना किसी धमकी या बल या जबरदस्ती के चीन से किसी भी मतभेद को शांतिपूर्ण तरीके से हल करने का आग्रह किया।
1949 में कम्युनिस्टों द्वारा चीन पर नियंत्रण करने के बाद राष्ट्रवादी ताकतों के वहां से भाग जाने के बाद से ताइवान स्व-शासन कर रहा है, और इसे बीजिंग द्वारा एक विद्रोही प्रांत माना जाता है।
4 अगस्त से शुरू हुए चीन के सैन्य अभ्यास ने विश्व व्यापार के लिए सबसे व्यस्त क्षेत्रों में से एक में उड़ानों और शिपिंग में व्यापक व्यवधान पैदा किया है।
बीजिंग के ताइवान मामलों के कार्यालय द्वारा जारी एक बयान में कहा गया है कि चीन शांतिपूर्ण पुनर्मिलन प्राप्त करने के लिए सबसे बड़ी ईमानदारी के साथ काम करना जारी रखेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Share