रूसी हमले से यूक्रेन में भारी तबाही, रूसी बलों ने असैन्य इलाकों में हमले तेज किए

 रूसी हमले से यूक्रेन में भारी तबाही, रूसी बलों ने असैन्य इलाकों में हमले तेज किए

रूसी बलों ने यूक्रेन के घनी आबादी वाले शहरी इलाकों पर हमले तेज करते हुए यूक्रेन के दूसरे सबसे बड़े शहर के मध्य स्थित एक मुख्य चौराहे और कीव के मुख्य टीवी टावर पर बमबारी की, जिसे यूक्रेन के राष्ट्रपति ने ‘‘आतंक’’ करार दिया। यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमिर जेलेंस्की ने खारकीव में ‘फ्रीडम स्क्वेयर’ पर रक्तपात के बाद कहा, ‘‘कोई इसे नहीं भूलेगा। इसे कोई माफ नहीं करेगा।’’
इस बीच, 40 मील दूरी तक फैला रूसी टैंकों और अन्य वाहनों का काफिला धीरे-धीरे कीव की ओर बढ़ा। देश की राजधानी कीव में करीब 30 लाख लोग रहते है। पश्चिमी देशों को आशंका है कि यह रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन की यूक्रेनी सरकार को अपदस्थ करके रूसी समर्थक सत्ता की स्थापना करने की कोशिश है। आक्रमणकारी बलों ने ओडेसे और मारियुपोल के अहम बंदरगाहों समेत अन्य शहरों एवं कस्बों पर भी हमले तेज कर दिए हैं।
द्वितीय विश्व युद्ध के बाद यूरोप में सबसे बड़े युद्ध के छठे दिन रूस और अलग-थलग पड़ गया। रूस की अर्थव्यवस्था को नुकसान पहुंचाने के लिए उस पर कड़े प्रतिबंध लगाए गए हैं और देश के पास चीन, बेलारूस और उत्तर कोरिया जैसे कुछेक मित्र ही बचे हैं। यूक्रेन में युद्ध में मारे गए लोगों की संख्या अभी स्पष्ट नहीं है। 5,000 से अधिक रूसी बल या तो कैद में हैं या मारे गए हैं। यूक्रेनी बलों को हुए नुकसान की अभी कोई जानकारी नहीं है। संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार कार्यालय ने बताया कि उसने 136 आम नागरिकों की मौत दर्ज की है, लेकिन मृतकों की वास्तविक संख्या इससे कहीं अधिक बताई जा रही है।
ब्रिटेन के रक्षा मंत्रालय ने कहा कि पिछले दो दिन में रूसी हमले तेज हुए हैं। उसने यह भी कहा कि तीन शहरों-खारकीव, खेरसन और मारियुपोल को रूसी बलों ने घेर लिया है। यूक्रेन के अधिकारियों ने बीती शाम को बताया कि रूसी सेना ने हमले के छठे दिन कीव के टीवी टॉवर और यूक्रेन में यहूदी नरसंहार के मुख्य स्मारक समेत अन्य असैन्य स्थलों को निशाना बनाते हुए हमले किए। यूक्रेन की सरकारी आपात स्थिति सेवा ने बताया कि टीवी टॉवर पर हमलों में पांच लोगों की मौत हो गयी तथा पांच अन्य घायल हो गए हैं।
यूक्रेन की संसद ने टीवी टॉवर के आसपास धुएं के गुबार की एक तस्वीर पोस्ट की और कीव के मेयर विताली क्लिश्चको ने इस पर हमला होने की एक वीडियो साझा की। उन्होंने कहा कि हमले के कारण टॉवर में बिजली पहुंचा रहे एक सबस्टेशन तथा एक नियंत्रण कक्ष क्षतिग्रस्त हो गये हैं। यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमिर जेलेंस्की के कार्यालय के प्रमुख आंद्रे यरमाक ने फेसबुक पर कहा, ‘‘उस स्थान पर शक्तिशाली मिसाइल हमला किया जा रहा है जहां (बाबी) यार स्मारक स्थित है।’’
बाबी यार में नाजियों ने 1941 में 48 घंटे के भीतर करीब 33,000 यहूदियों की हत्या कर दी थी। रूसी सेना ने यूक्रेन के दूसरे सबसे बड़े शहर खारकीव के मुख्य चौराहे ‘फ्रीडम स्क्वेयर’ तथा अन्य असैन्य ठिकानों पर मंगलवार को हमला किया जिससे पूरा शहर थर्रा उठा। सूर्योदय के कुछ ही समय बाद, एक रूसी सैन्य हमले में यूक्रेन के दूसरे सबसे बड़े शहर के केंद्र पर हमला किया गया जिससे प्रतीकात्मक सोवियत-युग के क्षेत्रीय प्रशासन भवन को बुरी तरह नुकसान पहुंचा। ऑनलाइन पोस्ट किए गए एक वीडियो में लगभग 15 लाख की आबादी वाले रणनीतिक खारकीव में क्षेत्र के सोवियत-युग के प्रशासनिक भवनों और आवासीय क्षेत्रों में विस्फोट होते दिखाई दिए।
इस बीच, खारकीव में हुए एक हमले की चपेट में आने से कर्नाटक निवासी एक भारतीय छात्र की मौत हो गई। रूस और यूक्रेन के बीच युद्ध शुरू होने के बाद से किसी भारतीय की मौत का यह पहला मामला है। यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमिर ज़ेलेंस्की ने खारकीव के मुख्य चौराहे पर हुए हमले को ‘निर्विवाद आतंक’ करार दिया और इसे युद्ध अपराध कहा। उन्होंने कहा, ‘कोई भी माफ नहीं करेगा। यह हमला एक युद्ध अपराध है। कोई नहीं भूलेगा।’
जेलेंस्की ने यूरोपीय संघ की संसद से एक भावनात्मक अपील में कहा कि यूक्रेन ‘यूरोप का समान सदस्य बनने के लिए भी’ लड़ रहा है। उन्होंने कहा, ‘मेरा मानना है कि आज हम हर किसी को दिखा रहे हैं कि हम क्या हैं ज् हमने साबित कर दिया है कि कम से कम, हम आपके जैसे ही हैं।’ शहरों पर हमले के अलावा, ऐसी खबरें सामने आई हैं कि मॉस्को ने आबादी वाले तीन क्षेत्रों पर क्लस्टर बमों का इस्तेमाल किया है।
क्रेमलिन ने इस बात से इनकार किया कि उसने इस तरह के हथियारों का इस्तेमाल किया है और फिर से जोर देकर कहा है कि उसके बलों ने केवल सैन्य ठिकानों पर हमला किया। हालांकि, घरों, स्कूलों और अस्पतालों पर बमबारी की कई तस्वीरें सामने आई हैं।इस बीच, पूरे यूक्रेन में अनेक लोगों ने एक और रात आश्रयों, तहखानों या गलियारों में बिताई। वहीं, युद्ध को रोकने के लिए चल रही वार्ता केवल आगे के दौर की वार्ता पर सहमति बनने के साथ ही समाप्त हो गई है।
यूक्रेन के राष्ट्रपति ने कहा कि बमबारी में वृद्धि केवल उन पर दबाव बनाने के उद्देश्य से की गई है। उन्होंने सोमवार को देर रात जारी वीडियो संदेश में कहा, ‘‘रूस इन आसान तरीकों से (यूक्रेन पर) दबाव बनाने की कोशिश कर रहा है।’’ जेलेंस्की ने हालांकि दिन में दोनों पक्ष के बीच हुई लंबी वार्ता की जानकारी नहीं दी, लेकिन उन्होंने कहा कि कीव कोई रियायत देने को तैयार नहीं है, वह भी तब जब एक ओर रॉकेट और तोप से हमले किए जा रहे हैं। जेलेंस्की ने कहा कि रूसियों के लिए कीव ‘‘मुख्य लक्ष्य’’ है। उन्होंने कहा, ‘‘वे हमारे देश की राष्ट्रीयता को खंडित करना चाहते हैं और इसलिए राजधानी लगातार खतरे में है।’’

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Share