भारतीय सेना को मिले 319 युवा अफसर, राष्ट्रपति ने ली सलामी

 भारतीय सेना को मिले 319 युवा अफसर, राष्ट्रपति ने ली सलामी

देहरादून। भारतीय सैन्य अकादमी देहरादून से पासिंग आउट परेड के बाद भारतीय सेना को 319 युवा अफसर मिल गए। इसके अलावा आठ मित्र देशों के 68 कैडेट भी आईएमए से कड़ा प्रशिक्षण पास आउट हुए और अब वे अपनी-अपनी सेना का हिस्सा बनेंगे। राष्ट्रपति राम नाथ कोविन्द बतौर निरीक्षक अधिकारी परेड की सलामी ली। वह इसके लिए शुक्रवार शाम दून पहुंच गए थे। कोरोना संक्रमण को देखते हुए परेड के दौरान हर स्तर पर सतर्कता बरती गई। देश-विदेश के गण्यमान्य लोग और वरिष्ठ सैन्य अधिकारी भी सीमित संख्या में अकादमी पहुंचे।
राज्यवार कैडेटों की संख्या
उत्तर प्रदेश -45
उत्तराखंड -43
हरियाणा- 34
बिहार- 26
राजस्थान -23
पंजाब- 22
मध्य प्रदेश -20
महाराष्ट्र -20
हिमाचल प्रदेश- 13
जम्मू कश्मीर -11
दिल्ली-11
तमिलनाडु -7
कर्नाटक- 6
केरल -5
आंध्र प्रदेश- 5
चंडीगढ- 5
झारखंड -4
पश्चिम बंगाल -3
तेलंगाना- 3
मणिपुर- 2
गुजरात -2
गोवा- 2
उड़ीसा- 2
असम -2
मिजोरम- 2
छत्तीसगढ़- 2
मिजोरम -2
ये हुए सम्मानित: राष्ट्रपति ने कैडेटों को ओवरआल बेस्ट परफार्मेंस और अन्य उत्कृष्ट सम्मान से नवाजा। अनमोल गुरुंग को स्वार्ड आफ आनर और स्वर्ण पदक प्रदान किया गया। तुषार सपरा को रजत व आयुष रंजन को कांस्य पदक मिला। कुणाल चौबीसा ने सिल्वर मेडल (टीजी) हासिल किया। सर्वश्रेष्ठ विदेशी कैडेट भूटान के सांगे फेनदेन दोरजी चुने गए। चीफ आफ आर्मी स्टाफ बैनर केरेन कंपनी को मिला। इस दौरान राज्यपाल ले जनरल गुरमीत सिंह (सेनि),मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी,आरट्रैक कमांडर ले जनरल राज शुक्ला,आईएमए  कमान्डेंट ले जनरल हरिंदर सिंह,डिप्टी कमान्डेंट मेजर जनरल आलोक जोशी समेत कई वरिष्ठ सैन्य अधिकारी मौजूद थे।
आपको बता दें वर्ष 1971 के भारत-पाक युद्ध में भारतीय सशस्त्र सेनाओं की जीत के 50 साल पूरे होने के अवसर पर आयोजित हो रही परेड को यादगार बनाने की तैयारी कई दिन से की जा रही थी। इस बीच तमिलनाडु के कुन्नूर में हुए हेलीकाप्टर हादसे में चीफ आफ डिफेंस स्टाफ (सीडीएस) जनरल बिपिन रावत, उनकी पत्नी मधुलिका रावत समेत 13 अधिकारियों व जवानों की मौत हो जाने से पीओपी समारोह को सादगी में बदल दिया गया। सीडीएस बिपिन रावत को भी परेड में शिरकत करने आईएमए पहुंचना था। ऐसे में अब सादगी के साथ परेड का आयोजन किया गया।
राज्यपाल गुरमीत सिंह और सीएम धामी भी पहुंचे:   आईएमए की पासिंग आउट परेड में शामिल होने के लिए इस बार उत्तराखंड के राज्यपाल रिटायर्ड लेफ्टिनेंट जनरल गुरमीत सिंह और मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी भी पहुंचे। उत्तराखंड के डीजीपी अशोक कुमार भी अपने परिवार के साथ आईएमए में मौजूद थे।
पीओपी में शामिल रहे तीन बैंड:   आज की पीओपी में तीन बैंड शामिल थे। इंडियन मिलिट्री बैंड देहरादून, बंगाल इंजीनियर बैंड और गढ़वाल राइफल के बैंड अपनी धुन से परेड की रौनक बढ़ा रहे थे। बैंड की धुन पर परेड मार्च शुरू हुई थी। पीओपी परेड मार्च में विजय भारत धुन ने वहां मौजूद लोगों को आकर्षित किया।
वहीं, पीओपी के मद्देनजर अकादमी के आसपास सुरक्षा व्यवस्था चाक-चौबंद की गई है। चप्पे-चप्पे पर सेना के सशस्त्र जवान तैनात हैं। अकादमी परिसर के बाहरी क्षेत्र में सुरक्षा का जिम्मा पुलिस के पास है। पीओपी के दौरान पंडितवाड़ी से प्रेमनगर तक जीरो जोन है। इस दौरान राष्ट्रीय राजमार्ग-72 (चकराता रोड) से गुजरने वाला यातायात प्रेमनगर व बल्लूपुर से डायवर्ट किया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Share