ओमीक्रोन से बचाव को सरकार बुस्टर डोज लगवाए

 ओमीक्रोन से बचाव को सरकार बुस्टर डोज लगवाए

नई टिहरी। उतराखण्ड उच्च न्यायालय नैनीताल की कोविड 19 के प्रसार की रोकथाम के लिए गठित जिला अनुश्रवण एवं निगरानी समिति के पूर्व सदस्य शान्ति प्रसाद भट्ट ने कोरोना के नए वेरिएंट के खतरे के मध्यनजर सरकार से मांग की है, कि विश्व स्वास्थ्य संगठन की गाइड लाइन के अनुसार नागरिकों को बूस्टर डोज दी जाय। पूर्व की भांति कोविड प्रोटोकाल का पालन भी सुनिश्चित करवाया जाए।
भट्ट ने प्रेस को जारी विज्ञप्ति में कहा कि कोविड19 कोरोना वायरस का नया वेरियंट ओमिक्रोन मिलने के बाद दुनिया भर के देशों को अपने-अपने नागरिकों की सुरक्षा की चिंता सताने लगी है, लेकिन अनेकों देशों ने समय रहते इसकी रोकथाम के लिए कोविड की दोनों डोज लेने के बाद अपने नागरिकों को बूस्टर डोज भी देनी शुरू कर दी है, इजरायल पहला देश है, जिसने अपने नागरिकों को बूस्टर डोज दी है, ब्रिटेन व अमेरिका जैसे देश भी बूस्टर डोज दे रहे हैं। किंतु भारत मे लापरवाही का आलम जारी है, बूस्टर डोज पर अभी तक सरकार का कोई बयान नही है, उल्टा देश के आला नेता चुनावी रैली, प्रचार-प्रसार में व्यस्त हैं। जिससे लापरवाही झलकमी है। देश भर में कोविड प्रोटोकॉल का पालन नहीं हो रहा है। शादियों में लोग फिर वही जमावड़ा लगा रहे हैं। सीमाओं पर कोई चैकिंग, या टेस्टिंग नहीं हो रही है, मास्क तो मानो लोग भूल ही गए हैं। बड़े अधिकारी तो अपने कार्यालयों में शीशे के कवच में बैठे हुए है, किन्तु आम नागरिक बेरोकटोक अपनी रोजी रोटी के लिए संघर्ष कर दो जून की रोटी जुटाने में लगे हुए हैं। उन्हें नहीं पता कि कब उन्हें कोविड की बीमारी लग जाये। कोरोना के फैलने की संभावनाओं को देखते हुये भट्ट ने कोरोना से निपटने के पुख्ता इंतजाम के साथ ही कीटनाशक के छिड़काव के साथ ही टेस्टिंग शुरू करने की मांग की है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Share