राज्यपाल लेफ्टिनेंट जनरल गुरमीत सिंह ने की जनप्रतिनिधियों के शिष्टमंडल से मुलाकात

 राज्यपाल लेफ्टिनेंट जनरल गुरमीत सिंह ने की जनप्रतिनिधियों के शिष्टमंडल से मुलाकात

पौड़ी। राज्यपाल लेफ्टिनेंट जनरल गुरमीत सिंह (से.नि.) अपने दो दिवसीय भ्रमण पर जनपद पौड़ी में बुधवार को देर सांय जनप्रतिनिधियों के शिष्टमंडल से मुलाकात कर, बैठक की। बैठक में ब्लाक प्रमुख एकेश्वर नीरज पाथरी, ग्राम प्रधान श्रीमती रेखा बलूनी, नूतन रावत, गजेंद्र सिंह, कमल सिंह, पुजारी भास्कर नन्द अथ्वाल सहित अन्य शामिल थे। इस दौरान राज्यपाल ने उनके द्वारा अपने अपने क्षेत्र में किए जा रहे विशेष कार्यों की जानकारी ली, तथा कार्यों एवं विकास को लेकर सुझाव भी मांगे, साथ ही उनकी समस्या एवं मांग पर जल्द निस्तारण करने का भरोसा दिया। ब्लाक प्रमुख नीरज पांथरी ने जानकारी देते हुए अवगत कराया कि अधिकारियों के सहयोग से केंद्र तथा राज्य सरकार की योजनाओं से ग्रामीण क्षेत्रों को धरातल पर लाभान्वित किया जा रहा है। कोविड-19 के दौरान बाहरी राज्यों से लौटे प्रवासियों को स्वरोजगार दिलाने में सरकार की संचालित योजनाएं मील का पत्थर साबित हुई है, बाहर से आए युवाओं ने पॉलीहाउस में बेमौसमी सब्जी का उत्पादन, मत्स्य पालन, गौपालन, बकरी पालन, कुक्कुट पालन, प्रधानमंत्री रोजगार सृजन योजना तथा मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना, दीनदयाल उपाध्याय आवास होमस्टे एवं वीरचंद्र सिंह गढ़वाली स्वरोजगार तथा सहकारिता विभाग से बिना ब्याज के 2 लाख तक की ऋण आदि योजनाओं का लाभ लेते हुए, होमस्टे, होटल, ढाबे, दुकाने, लघु उद्योग स्थापित कर अपने आजीविका को संवर्धन करने में जुटे हैं। ग्राम प्रधान श्रीमती रेखा बलूनी ने राज्यपाल को जानकारी देते हुए अवगत किया कि ग्रामीण क्षेत्रों में महिला स्वयं सहायता समूह का गठन कर आजीविका के क्षेत्र में बेहतर कार्य किये जा रहे है, जिनसे महिला आत्मनिर्भर बनकर अपने परिवार का भविष्य संवारने में सक्षम बन रही है। जिस पर राज्यपाल ने ग्रामीण क्षेत्रों में बेहतरीन कार्य करने पर जनप्रतिनिधि को शुभकामनाएं दी। उन्होंने कहा कि आगे भी इसी तरह कार्य जारी रखा जाए। उन्होंने कहा कि आप सभी धरातल से जुड़े हैं, आप यह सब कर सकते हैं। राष्ट्र एवं समाज के लिए जितना उत्कृष्ट कार्य कर सकें जरूर करें। इससे बड़ा आत्म सम्मान व संतुष्टि नहीं है और न ही इससे बढ़कर कोई गौरव है। आज पूरे देश का वातावरण यस डू इट बना है। जनप्रतिनिधियों ने राज्यपाल के सम्मुख पलायन रोकथाम के लिए सुगम सुविधाएं एवं सरलीकरण कार्यों के सुझाव दिए तथा मनरेगा में रोजगार की दिहाड़ी (मजदूरी) तथा दिनों की संख्या बढ़ाने की मांग की। जिस पर राज्यपाल ने जल्द निस्तारण करने का भरोसा दिया। राज्यपाल ने जनप्रतिनिधियों से जनपद क्षेत्र अंतर्गत 5 से अधिक ऐसे स्थलों को चिन्हित कर रिपोर्ट देने को कहा जहां पर केबल कार (रोप-वे) लगाया जाए। उन्होंने कहा कि चारधाम सड़क परियोजना एवं रेल मार्ग बनने से जहां आवागमन के लिए लाइफ लाइन बन रही है। इसके अलावा यहां पर रोप-वे विकसित होने से क्षेत्र में आवागमन की सुगम सुविधा विकसित होगी तथा पर्यटन के क्षेत्र में स्वरोजगार को और बढ़ावा मिल सकेगा। इससे रिवर्स पलायन को बढ़ावा मिलेगा। इसके उपरांत राज्यपाल से नगर पालिका अध्यक्ष यशपाल बेनाम, ब्लाक प्रमुख दीपक खुगशाल, रेड क्रॉस सचिव के एस असवाल, रघुराज सिह चौहान, कर्मचारी संगठन पदाधिकारी सीताराम पोखरियाल सहित अन्य गणमान्य ने बैठकर मुलाकात की। इस दौरान राज्यपाल ने जनपद के विकास के लिए उनकी सुझाव जाने तथा उनकी समस्या भी सुनी। सिरौली स्कूल की भवन जीर्णशिर्ण होने की समस्या पर राज्यपाल ने उक्त स्कूल की भवन को 3 माह के भीतर बनाने के निर्देश जिलाधिकारी को दिया। कर्मचारी संगठन पदाधिकारी जयदीप रावत एवं सीताराम पोखरियाल ने राज्यपाल से पुरानी पेंशन व्यवस्था को लागू करने की मांग की जिस पर उन्होंने उचित कार्रवाई का भरोसा दिया। रेडक्रॉस सचिव को अगले वर्ष के 27 अक्टूबर 2022 तक 1001 स्वयं सेवी बनाने के लक्ष्य दिया। उन्होंने कहा कि कोविड-19 की आपदा से स्वास्थ्य कर्मियों द्वारा अपनी जिम्मेदारी के साथ उत्कृष्ट कार्य किया है। महामारी से विजय दिलाने में अपना योगदान दे रहे हैं। इन्हें अब हेल्थ वारियर्स के रूप में जाना जा रहा है। पहले सिर्फ सैनिकों को योद्धाओं के नाम से जानते थे। अब हम हेल्थ वर्कर को भी योद्धाओं के नाम से जान रहे हैं इनके उत्कृष्ट सेवा ही राष्ट्र के लिए समर्पित है। राज्यपाल ने प्रोफेसर प्रभाकर बडोनी के पुस्तक पर सेव टू टूमारो का उल्लेख होने पर उन्हें 501 रुपए की नगद राशि देकर आत्मसम्मान पारितोषिक किया। उन्होंने कहा कि 80 प्रतिशत लोग बीते कल के बारे उलझा रहता है। इनका मोटिव बहुत अच्छा है। इन्होंने आने वाले कल के बारे में सोचा है, यह सोच समाज के लिए एवं राष्ट्र के लिए एक बेहतर सोच है। इस सोच के साथ हम सभी को मिलकर आगे बढ़ना है और राष्ट्र के लिए अपने को समर्पित करना है। गुरुवार को स्वयं सहायता ग्रुप के महिलाओं एवं संगठनों ने राज्यपाल से भेंट कर, अपने ग्रुप के बारे में विस्तृत कार्यों की जानकारी दी। उन्होंने कुछ अपनी समस्या के निस्तारण की मांग की। जिस पर राज्यपाल ने जिलाधिकारी को स्वयं सहायता समूहों की महिलाओं को प्रशिक्षण देने, उनके उत्पाद की ब्रांडिंग करने तथा नेटवर्क से जोड़ने के निर्देश दिये। वहीं खेल विभाग के 16 खेल प्रशिक्षण प्रतिभागियों ने राज्यपाल से भेंट कर, अपनी प्रतिभा से अवगत कराये। जिस पर राज्यपाल ने प्रदेश एवं राज्य के नाम को रोशन करने की शुभकामनाएं दी। इसके उपरांत से उत्कृष्ट कृषक ने राज्यपाल से मुलाकात कर अपने अनुभव को साझा किया। राज्यपाल ने विभागीय एवं स्वयं सहायता समूह के स्टालो के निरीक्षण के दौरान लोकतंत्र को मजबूत बनाने हेतु मतदान करने की शपथ दिलाई है। उन्होंने प्रधानमंत्री भारत सरकार की संचालित योजनाओं को धरातल पर देख कर प्रशंसा जताई। पौड़ी की स्वयं सहायता समूहों के स्टॉल अवलोकन के दौरान उत्पाद को अच्छे ब्रांिण्डंग के साथ बाहरी देशों में निर्यात करने को कहा। वहीं उत्कृष्ट कार्य करने वाले को राजभवन आमंत्रित किया। जबकि जिलाधिकारी डा0 विजय कुमार जोगदण्डे द्वारा कुशल प्रशासक के रूप में नेतृत्व करने पर पारितोषिक रूप से सम्मानीत किया। पर्यटन विभाग द्वारा आयोजित माउंटेन बाईकिंग को हरी झण्डी दिखाकर रवाना किया। इसके उपरान्त राज्यपाल ने जनपद के प्राचीन मंदिर क्यूंकालेश्वर का दर्शन कर प्रदेश वासियों को खुशहाली की कामना की। इस अवसर पर जिलाधिकारी डा0 विजय कुमार जोगदण्डे, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक पी. रेणुका देवी, एडीसी रचिता जुयाल तथा मुख्य विकास अधिकारी प्रशांत कुमार, अपर जिलाधिकारी इला गिरी, एएसपी अनूप काला, परियोजना निदेशक संजीव राय, जिला सैनिक कल्याण अधिकारी मेजर करण सिंह, जिला पर्यटन अधिकारी खुशाल सिह नेगी, सीएमओ प्रवीण कुमार, उपजिलाधिकारी आकाश जोशी एवं अजयवीर सिंह, सीओ पुलिस प्रेम लाल टम्टा, डीपीआरओ एम.एम. खान, सीएओ डीएस राणा, सीवीओ के एस बर्तवाल, जिला मत्स्य अधिकारी अभिषेक मिश्रा, डीपीओ जितेन्द्र कुमार, स्काउट गाइड, एनएसएस, नेहरू युवा स्वयंसेवी सहित अधिकारी, समूह की महिला व अन्य लोग उपस्थित रहे।
फोटो 23 संलग्न है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Share