जंगल में रास्ता भटके शिवपुरी घूमने आए मेरठ के दो युवकों का सुरक्षित रेस्क्यू किया  

 जंगल में रास्ता भटके शिवपुरी घूमने आए मेरठ के दो युवकों का सुरक्षित रेस्क्यू किया  

ऋषिकेश। दोस्तों के साथ शिवपुरी में घूमने आए मेरठ के दो युवक जंगल में रास्ता भटक गए। सूचना मिलने पर एसडीआरएफ और पुलिस की संयुक्त टीम ने करीब छह घंटे में दोनों को ढूंढा और जंगल से सुरक्षित निकालकर ले आए। शिवपुरी चौकी प्रभारी सुनील पंत ने बताया कि शनिवार रात नौ बजे शास्त्रीनगर, मेरठ निवासी विशांत सोम ने चौकी पहुंचकर सूचना दी कि वह अपने दोस्त सुदर्शन यादव (23) पुत्र राजकुमार यादव निवासी देवीनगर और पर्व गर्ग (23) पुत्र अजय गर्ग निवासी गांधीनगर, मेरठ, यूपी के साथ ऋषिकेश आया था। तीनों दोस्त शिवपुरी में ही ठहरे। बताया कि तड़के 5 बजे दोनों दोस्त समीप मंदिर में जाने की बात कहकर निकले। देर शाम तक वापस नहीं लौटे। उनकी अंतिम कॉल शाम 5.50 बजे आयी थी कि वह जंगल में रास्ता भटक गए हैं। अब उनका मोबाइल भी स्वीच ऑफ आ रहा है।
तत्काल इसकी सूचना पौड़ी कंट्रोल रूम को दी गई। इस पर पुलिस ने तत्काल कारवाई करते हुए रात में ही जंगल में भटके दोनों युवकों की तलाश शुरू कर दी। उनकी मोबाइल नंबर की लोकेशन नीर गांव के घने जंगल में मिली। देर रात उनकी जंगल में तलाश की गई, लेकिन पता नहीं चल पाया। रविवार सुबह फिर से दोनों युवकों की तलाश एसडीआरएफ की टीम के साथ शुरू कर की गई। ब्रह्मपुरी के पास घने जंगल में सुदर्शन यादव सहमी हालत मिला। पुलिस को देख उसकी जान में जान आई। उसने बताया कि उसका साथी पर्व गर्ग पहाड़ी की चोटी के आसपास है। उसके पैरों में रात जंगल में चलने से सूजन आ गई है। जिस वजह से वह चल नहीं पा रहा है। एसडीआरएफ के जवानों ने अति दुर्गम स्थान पर सर्च ऑपरेशन कर पर्व को वहां से सुरक्षित निकाल लिया। टीम में एसडीआरएफ उपनिरीक्षक नीरज चौहान, कांस्टेबल अजय राज, कौशल राठौर शामिल रहे।
सारी रात डर के साए में रहे दोनों युवक:  जंगल में घूमना सुदर्शन और पर्व को भारी पड़ गया। पूरी रात जहां जंगल में बीतनी पड़ा, वहीं जंगली जानवरों का खतरा भी सताता रहा। गनमीत रही कि गुलदार व अन्य किसी जंगली जानवर से उनका सामना नहीं हुआ। जंगल से सुरक्षित निकलने के बाद दोनों ने एसडीआरएफ और स्थानीय पुलिस के काम को सराहा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Share