बंगाल की खाड़ी में बना साइक्लोनिक सर्कुलेशन, कई राज्यों में बारिश की संभावना !

 बंगाल की खाड़ी में बना साइक्लोनिक सर्कुलेशन, कई राज्यों में बारिश की संभावना !

मार्च का दूसरा हफ्ता शुरू होते ही मौसम का मिजाज बदल गया है। देश के कई इलाकों में अब तापमान बढऩे लगे हैं। इसी बीच मौसम विभाग के मुताबिक बंगाल की खाड़ी में एक साइक्लोनिक सर्कुलेशन बन रहा है। हालांकि राहत की बात ये है कि कम दबाव का ये क्षेत्र श्रीलंका की तरफ बढ़ेगा। इसके बावजूद भी दक्षिणी और तटीय इलाकों में इसका असर दिख सकता है।
इसके बाद ये सिस्टम श्रीलंका और मन्नार की खाड़ी में आगे बढ़ सकता है। इसके चलते 12 और 13 मार्च के आसपास तमिलनाडु के दक्षिणी तटीय भागों में कुछ बारिश हो सकती है। ये मौसमी सिस्टम भूमध्य रेखा के करीब है। लिहाजा कहा ये भी जा रहा है कि इसका कोई खास प्रभाव नहीं दिखेगा।
स्काईमेट वेदर के मुताबिक लद्दाख और आसपास के इलाकों में वेस्टर्न डिस्टरबेंस बना हुआ है जो धीरे-धीरे पूर्व की तरफ आगे बढ़ रहा है। एक निम्न दबाव की रेखा केरल से आंतरिक कर्नाटक होते हुए उत्तरी मध्य महाराष्ट्र तक फैली हुई है। साथ ही एक चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र दक्षिण-मध्य बंगाल की खाड़ी के ऊपर बना हुआ है।
अगले 24 घंटों के दौरान, अंडमान और निकोबार द्वीप समूह के दक्षिणी इलाकों में हल्की से मध्यम बारिश हो सकती है। साथ ही एक दो स्थानों पर भारी बारिश की भी संभावना है। केरल के कुछ हिस्सों, तटीय कर्नाटक और मध्य महाराष्ट्र के एक या दो हिस्सों में हल्की बारिश हो सकती है। कहा जा रहा है कि देश के पक्षिम इलाकों में अगले 2-3 दिनों के दौरान तापमान में बढ़त देखी जा सकती है। अगले 48 घंटों के दौरान देश के मैदानी इलाकों में उत्तर-पश्चिमी दिशा से तेज हवाएं चलने की संभावना है।
उधर राजस्थान में एक नए पश्चिमी विक्षोभ के चलते पिछले 24 घंटे के दौरान राज्य के कुछ इलाकों में बारिश दर्ज की गई। मौसम विभाग के प्रवक्ता ने बताया कि राज्य में पिछले 24 घंटे में मेघ गर्जन के साथ कहीं-कहीं हल्के से मध्यम दर्जे की बारिश दर्ज की गई। चित्तौडग़ढ़ के बेगू में सर्वाधिक 3 सेंटीमीटर बारिश दर्ज की गई। वहीं भीलवाड़ा के बिजोलिया में 2 सेंटीमीटर, कोटा के मंडला में 1 सेंटीमीटर, चूरू के सुजानगढ़ में एक सेंटीमीटर, नागौर के मकराना में एक सेंटीमीटर बारिश दर्ज की गई।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Share